महाराजगंज

गांव के लोग कचड़े में चलने को मजबूर, स्वच्छ भारत मिशन की उड़ाई जा रही धज्जियां

साफ सफाई का इतना आभाव है कि लोगों के अंदर बीमारियों का डर बना हुआ है। ग्रामीणों का कहना है कि पूरा विश्व कोरोना वायरस जैसी खतरनाक महामारी से लड़ रहा हैं और इस महामारी के दौरान गांव में साफ सफाई ना होने से ग्रामीण डरे व सहमे हुए हैं।

नौतनवां तहसील क्षेत्र के ग्राम पंचायत शेष फरेन्दा टोला करमहिया गांव में नालों और कच्ची सड़को का हाल बेहाल है। पूरे गांव में हर जगह जलजमाव होने से ग्रामीणों को आने जाने में काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। साफ सफाई का इतना आभाव है कि लोगों के अंदर बीमारियों का डर बना हुआ है। ग्रामीणों का कहना है कि पूरा विश्व कोरोना वायरस जैसी खतरनाक महामारी से लड़ रहा हैं और इस महामारी के दौरान गांव में साफ सफाई ना होने से ग्रामीण डरे व सहमे हुए हैं। लोगों का कहना है कि जलजमाव की स्थिति में गांव की जनता को कहीं मलेरिया संचारी रोग जैसीे अन्य बीमारियों का सामना ना करना पड़े। केंद्र व राज्य सरकार द्वारा बार-बार स्वच्छता पर विशेष ध्यान दिया जा रहा है। और सरकार द्वारा स्वच्छता अभियान के तहत पैसा पानी की तरह बहाया जा रहा है। बताया गया कि ग्राम प्रधान शकुंतला देवी प्रतिनिधि रामकिशुन का कहना है कि ग्राम विकास अधिकारी उमेश यादव नहीं चाह रहे हैं कि ग्राम सभा की नालो एवं सड़कों की साफ-सफाई हो। ग्रामीणों ने कई बार ग्राम प्रधान व ग्राम विकास अधिकारी को गांव की इस समस्या से अवगत कराया है। परंतु जिम्मेदार ग्राम सभा के साफ सफाई पर कोई ध्यान नहीं दे रहे हैं लापरवाही का आलम यह है कि ग्रामीणों की इस समस्या से बीमारी का प्रबल खतरा बना हुआ है जिससे ग्रामीणों में डर का माहौल व्याप्त है।

loading...
Loading...

Related Articles