हरदोई

प्रातः और सायं यज्ञ करके संसार के विविध रोगों का निवारण सम्भव-डॉ राजेश मिश्रा

प्रातः और सायं यज्ञ करके संसार के विविध रोगों का निवारण सम्भव-डॉ राजेश मिश्रा

हरदोई।प्राचीन भारतीय संस्कृति में दिनचर्या का शुभारम्भ मंत्र व हवन से होता था। तपस्वी और ऋषि-मुनियों से लेकर सद्गृहस्थों,
वटुक-ब्रह्मचारियों तक नित्य प्रति यज्ञ किया करते थे।कायाकल्प केन्द्र स्थित यज्ञशाला में ‘चतुर्वेद शतकम् यज्ञ’ के समापन अवसर पर नेचरोपैथ डॉ राजेश मिश्र ने बताया कि प्रातः और सायं यज्ञ करके संसार के विविध रोगों का निवारण सम्भव है। बताया कायाकल्प केन्द्र में नित्य सुबह-शाम हवन किया जाता है।नेचरोपैथ डॉक्टर मिश्र ने बताया कि यज्ञों के माध्यम से शारीरिक,मानसिक और आध्यात्मिक लाभ उठाया जा सकता है। कहा,शुद्ध वायु पहली आवश्यकता है। इसलिए सम्पूर्ण मानवजाति को हवन करके अपने आसपास का वातावरण शुद्ध करना चाहिए।इससे हमारे बन्धु-बान्धव तथा प्रियजन सतोगुणी होंगे और उनकी रोगप्रतिरोधक क्षमता बढ़ेगी।दिलीप गुप्त,हरिवंश सिंह, शिवकुमार,नवल किशोर, रत्ना मिश्र,रेखा व रिंकी गुप्ता ने आहुतियां डालीं।

loading...
Loading...

Related Articles