पटनाबिहार

कुख्यात से वार्ड पार्षद व फिर बीजेपी का दामन थामने वाला दीपक का था खगौल में आतंक

हुल्लड, दीपक और मामा कभी रहें थे रीतलाल यादव के गुर्गा, गिराएं थे कई विकेट

>> कट्टा से रायफल लिये पुलिसकर्मियों पर किया था हमला ,बोलने लगा था तुती

>> शेयर और सम्मान नहीं मिलने पर रीतलाल यादव को छोड़ सत्यनारायण सिन्हा के पाले में हो गया था शामिल

>> टेनीया व उसको तीन गुर्गे ने दीपक पासवान को गोली मारकर किया जख्मी

रवीश कुमार मणि
पटना ( अ सं ) । राजनीति और अपराध में स्वार्थ कहीं ज्यादा अधिक होता हैं । इस क्षेत्र में अधिकांश अपने साथियों को धोखा देकर आगे बढ़ते हैं । कुछ ऐसा ही हाल पटना के खगौल-दानापुर का रहा हैं । कुख्यात हुल्लड़ पासवान ,दीपक पासवान और मामा का कभी खगौल में आतंक था। यहीं तीनों ने कभी रीतलाल यादव के कई विकेट गिरा रेलवे पर वर्चस्व कायम कराया था। शेयर और उचित सम्मान नहीं मिलने पर तीनों सत्यनारायण सिन्हा के पाले में शामिल हो गये थे। सत्यनारायण सिन्हा की हत्या के बाद ऐ तीनों कभी रीतलाल यादव से समझौता नहीं किये । जेल से निकलने के बाद हुल्लड़ पासवान की हत्या हो गयी । और इसके पीछे दोस्त द्वारा धोखाधड़ी सामने आया। बुधवार को दिनदहाड़े खगौल में दीपक पासवान की गोली मार दिया गया । दीपक पासवान वर्तमान में वार्ड पार्षद व भाजपा का नेता हैं । जिसका दलित वोट पर पकड़ हैं । दीपक पासवान को गोली मारकर जख्मी करने में टेनीया व उसके गुर्गे का नाम सामने आया है। दो मोटरसाइकिल पर सवार होकर आएं चार अपराधी घटना को अंजाम देकर हथियार लहराते भाग गये । घटना के पीछे पुरानी अदावत है। दीपक पासवान की हालात चिंता जनक बताई जा रही हैं ,उसे हाईटेक हॉस्पिटल से पारस हॉस्पिटल में रेफर किया गया हैं । वार्ड पार्षद सह भाजपा नेता को देखने भाजपा सांसद राम कृपाल यादव व विधायक आशा देवी अस्पताल पहुंची हैं ।

पुलिसकर्मियों पर हुईं थी गोलीबारी और रीतलाल यादव का रेलवे पर वर्चस्व हुआ था कायम

दशक पहले खगौल में रेलवे पर वर्चस्व को लेकर दो पक्ष आमने-सामने रहें थे। रीतलाल यादव के टीम में खगौल का हुल्लड़ पासवान ,दीपक पासवान और मामा काम करते थे। हुल्लड़ के नेतृत्व में खगौल में पुलिसकर्मियों पर हमला कर दिया गया । हुल्लड़ का कट्टा , रायफल लिये पुलिसकर्मियों पर भारी पड़ा । इस घटना के बाद रीतलाल यादव का रेलवे पर वर्चस्व कायम हो गया । रीतलाल यादव बुलंदियों का सीढ़ी चढ़ रहा था, कई कारोबार बढ़ चला था । वही  हुल्लड़, दीपक और मामा को न तो उचित शेयर और न ही सम्मान मिल रहा था।  रीतलाल यादव के लिए कई विकेट गिराने वाला हुल्लड़ पासवान ,दीपक पासवान और मामा अब पाला छोड़ भाजपा नेता सत्यनारायण सिन्हा से जा मिले ।

सत्यनारायण सिन्हा की हत्या ने दिया बिखेर

पूर्व मुख्यमंत्री लालू यादव के आह्वान पर पटना के गांधी मैदान में लाठी लावन-तेल पिलानव रैली कार्यक्रम था । भाजपा नेता सत्यनारायण सिन्हा ,रिन्टू सिंह और राकेश तीनों कार से जा रहें थे की पूर्व से घात लगाएं रीतलाल यादव और इसके गुर्गे ने गाड़ी पर गोलीबारी कर दिया । इसमें भाजपा नेता सत्यनारायण सिन्हा मारा गया । वही रिंटू सिंह और राकेश बच गया। बाद में राकेश की गोली मारकर हत्या कर दिया गया । इधर सत्यनारायण सिन्हा की हत्या के बाद रीतलाल यादव और पुरी तरह से खगौल और दानापुर में हावी हो गया । सिस्टम ऐसा नाचा की सत्यनारायण सिन्हा के टीम में शामिल हुल्लड़ पासवान ,दीपक पासवान और मामा एक-एक कर जेल भेज दिये गये ।  लंबे समय जेल में रहने के बाद तीनों छूटे। हुल्लड़ पासवान ,एक बिल्डर के शरण में रहने लगा। इसी क्रम में हुल्लड़ पासवान की हत्या कर दिया गया । दीपक पासवान ,वार्ड पार्षद बना और भाजपा का दामन थाम लिया । मामा अभी अपराध के रास्ते पर है और इसका जेल-बेल होते रहता हैं । दीपक पासवान और मामा पर कई हत्या ,गोलीबारी ,रंगदारी के मामले दर्ज हैं ।

खगौल में फिर गैंगवार की आशंका

दीपक पासवान ,अपराध की दुनिया का बड़ा खिलाड़ी हैं । इसके कई दोस्त अभी ऐसे है जो एक हुक्म पर कई लाशें गिरा देंगे ।अभी दीपक पासवान की हालात चिंताजनक है। दीपक के हमले के पीछे टेनीया गिरोह का नाम सामने आया हैं ।दोनों में पुरानी दुश्मनी हैं । बदले की भावना को लेकर गैंगवार पुनः पनप सकता है। वही  पुलिस का दावा है की किसी अपराधी को कानून हाथ में नहीं लेने दिया जाएंगा और हावी होने के पहले ही हवालात की सैर करा दिया जाएंगा ।
loading...
Loading...

Related Articles