बिहार

अपराध के मामले में मुंगेर का भी रहा है पुराना इतिहास

Munger also has an old history in the case of crime

गंगा रजक

विकास दुबे के जैसे सैकडो अपराधी बेल पर घुम रहे

मुंगेर । विकास दुबे ने भारत की राजनीति न्यायपालिका, विधायिका कार्यपालिका सहित भारत को हिला कर रख दिया। जबकि बिहार के मुंगेर जिला को देखा जाए तो ऐसे अनेकों विकास दुबे मिलेंगे। जो हत्या दर हत्या के बाद राजनेता बन गए और राजनेता आशीर्वाद देते रहे। विकास दुबे आज सिर्फ इतना ही किया की एक साथ 8 पुलिस को मौत के घाट उतार दिया। उसकी एक ही गलती थी कि वह एक साथ बड़ी संख्या में घटना को अंजाम दिया। जबकि उसके पूर्व विकास ने 50 से अधिक घटनाओं को अंजाम दिया। यहां तक कि मंत्री को थाने में गोली मार दी है। इसके बावजूद विकास को बेल मिल जाता है। इन तमाम मुद्दों पर गंभीरता से देखा जाए तो पुलिस के वरीय पदाधिकारी शासन के राजनेता न्याय व्यवस्था इन लबों पर प्रश्न चिन्ह लग जाता है यहां तक कि योगी सरकार ने अपराध के लिए अपराधी को राज्य से बाहर जाने को कहा था। इसके बावजूद राज्य के योगी सरकार को विकास ने खुली चुनौती दी।

नहीं है कि विकास सिर्फ यूपी में है। जमालपुर में दो-दो दरोगा को अपराधियों ने मौत के घाट उतार दिया। डीआईजी पर भी हमला किया। एसपी को बम से उड़ा दिया। न्याय व्यवस्था पुलिस व्यवस्था विधायिका ने इसे क्या दिया। आज नीतीश एवं भाजपा की दो पहिए वाली सरकार में समाजवाद का नारा दिया था। लेकिन इस सरकार की यह स्थिति है कि समाजवाद की परिभाषा बदल कर रख दिया है। जिस सरकार ने शराबबंदी का नारा दिया । आज यहां शराबियों से ज्यादा शराब बेचने वाले हो गए है। जिसमें ज्यादा संख्या युवाओं की है खुलेआम मोबाइल पर धंधा चला रहा है नगर परिषद के भ्रष्टाचार के खिलाफ जो भी कुछ कहते हैं उस की बोलती बंद हो जाती है। यहां तक कि लोकायुक्त को भी मुंह में ताला जड़ दिया जाता है। मंत्री की तो बात छोड़िए जमालपुर में जो लौटा- गमछा लेकर आए। आज वह जमींदार बन गए हैं ।

भ्रष्टाचार के दम पर तो कई अपराध के बल पर दर्जनों अपराधों से जुड़े लोग पार्षद व चेयरमैन बनकर अपार संपत्ति अर्जित की और सरकार ने जिस समाज की बात की थी। वही नगर परिषद करोड़ों के अनियमित कार्य को अंजाम दे रही है। जो पार्षद खिलाफ बोलते हैं वैसे पार्षद को मंत्री समर्थकों द्वारा दबाव बनाया जाता है। बरहाल पुलिस अंचल क्षेत्र का आलम यह है कि कोरोना काल में भी अपराधियों द्वारा हत्याओं का दौड़ थमने का नाम नहीं ले रहा हैं। हांलाकि पुलिस अधीक्षक ने कई मामलों में तत्क्षण कार्रवाई कर अपराधियों के मंसूबों को बेनकाब भी किया हैं।

loading...
Loading...

Related Articles