Thursday, October 1, 2020 at 1:59 PM

रिजर्व बैंक की बैठक के नतीजे जारी: नहीं होगा रेपो रेट में बदलाव, लोन ब्‍याज दरों में भी नहीं मिलेगी छूट

नई दिल्‍ली.  देश के गवर्निंग बैंक, रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने गुरुवार को अपनी मौद्रिक समीक्षा बैठक के नतीजे जारी कर दिये हैं। जानकारी के मुताबिक ये बैठक तीन दिनों तक चली है। हालांकि इस बैठक में रेपो रेट को लेकर कोई फैसला नहीं लिया गया है। रेपो रेट में बदलाव नहीं होने का मतलब ये हुआ कि आपको ईएमआई या लोन की ब्याज दरों पर नई राहत नहीं मिलेगी। रिजर्व बैंक के गवर्नर शक्तिकांत दास ने बैठक के नतीजों की जानकारी देते हुए कहा कि रेपो रेट को 4 फीसदी पर बरकरार रखने का फैसला लिया गया है। इसी तरह, रिवर्स रेपो रेट भी 3.35 फीसदी पर स्थिर है। हालांकि, आरबीआई गवर्नर ने लोन मोरेटोरियम को लेकर कोई बात नहीं की है। आपको बता दें कि 31 अगस्त को लोन मोरेटोरियम की अवधि खत्म हो रही है। ऐसे में उम्मीद की जा रही थी कि आरबीआई गवर्नर इस मुद्दे को लेकर कोई बड़ा ऐलान कर सकते हैं। बैंकों की ओर से लगातार इसे आगे नहीं बढ़ाने की गुजारिश की जा रही है। अब रिजर्व बैंक के मौद्रिक नीति समीक्षा की बैठक अक्टूबर में होने वाली है। रिजर्व बैंक के गवर्नर ने कहा कि गोल्ड ज्वेलरी पर कर्ज की वैल्यू बढ़ा दी गई है। अब 90 फीसदी तक कर्ज मिल सकेगा। वर्तमान में सोने की कुल वैल्यू का 75 फीसदी तक ही लोन मिलता है। आरबीआई गवर्नर ने कहा कि ग्लोबल इकोनॉमी अब भी कमजोर है। हालांकि, विदेशी मुद्रा भंडार में बढ़त का सिलसिला जारी है।

उन्‍होंने कहा कि खुदरा महंगाई दर नियंत्रण में है। आरबीआई गवर्नर के मुताबिक दूसरी छमाही में महंगाई दर कम हो सकती है। कोरोना की मार के बाद देश की इकोनॉमी अब ट्रैक पर लौट रही है। गवर्नर ने कहा कि अच्छी पैदावार से ग्रामीण इकोनॉमी में रिकवरी है। वित्त वर्ष 2020—21 में जीडीपी ग्रोथ रेट निगेटिव रहेगी। एमएसएमई के कर्ज रीस्ट्रक्चरिंग की मोहलत बढ़ा दी गई है। अब रीस्ट्रक्चरिंग अवधि 31 मार्च 2021 तक है। इस बीच, शेयर बाजार में बढ़त बरकरार है। 12 बजे के बाद सेंसेक्स 200 अंक मजबूत और निफ्टी 11,150 अंक के आगे कारोबार करता दिखा।

आपको बता दें कि कोरोना काल में रिजर्व बैंक के मौद्रिक नीति समीक्षा की तीसरी बैठक थी। कोरोना संकट की वजह से दो बार समय से पहले बैठक हो चुकी है। पहली बैठक मार्च में और उसके बाद मई, 2020 में दूसरी बैठक हुई थी।

 

loading...
Loading...