संतकबीर नगर

संत कबीर नगर, कोरोना उपचाराधीन मां भी करा सकती हैं बच्चे को स्तनपान

संत कबीर नगर

परिवार कल्याण कार्यक्रम के नोडल अधिकारी व एसीएमओ डॉ. मोहन झा का कहना है कि मां का दूध शिशुओं के लिए सबसे अच्छा आहार माना जाता है। यह न केवल शिशुओं के सम्पूर्ण विकास में सहायक है, बल्कि कई रोगों से लड़ने में मदद भी करता है। इसके महत्व को लोगों तक पहुंचाने के लिए विश्व में हर साल एक से सात अगस्त तक विश्व स्तनपान सप्ताह मनाया जाता है। इस बार विश्व स्तनपान सप्ताह की ग्लोबल थीम ‘‘स्वस्थ समाज के लिए स्तनपान का संकल्प’’ रखी गई है। उन्होंने बताया कि  नवजात शिशुओं को जन्म के एक घंटे के अंदर मां का दूध और पहले 6 माह तक सिर्फ स्तनपान कराने से कई तरह की बीमारियों के साथ ही कोरोना जैसी महामारी से भी लड़ने की क्षमता बढ़ती है। इस दौरान यदि मां कोरोना उपचाराधीन है या उसकी संभावना है, तब भी मां शिशु को स्तनपान करा सकती है, परंतु सावधानी के तौर पर उसे यह जरूर ध्यान रखना है कि जब भी वह बच्चे के संपर्क में हों, तो मॉस्क पहनें और खांसते व छींकते समय मुंह को ढक लें। इसके अलावा बच्चे को अपना दूध पिलाने से पहले और बाद में अपने हाथों को साबुन-पानी से 60 सेकेंड तक जरूर धोएं। वहीं अगर बच्चा बीमार है या कोरोना उपचाराधीन है और यदि वह दूध पी रहा है। तो मां को अवश्य शिशु को स्तनपान कराना चाहिए। इस दौरान अगर मां को बुखार, खांसी या सांस लेने में तकलीफ है, तो तुरंत चिकित्सक से संपर्क करें और बताए गए नियमों का पालन करें।

loading...
Loading...

Related Articles

Back to top button