जब जब देश भावुक हुआ, तब तब फ़ाइलें ग़ायब हुईं : राहुल गांधी

नई दिल्ली। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने चीनी सैनिकों द्वारा घुसपैठ के मामले पर मोदी सरकार को आड़े हाथ लिया है। उन्होंने ट्वीट कर सरकार पर आरोप लगाया कि जब-जब देश भावुक हुआ है तब-तब फाइलें गायब हुई हैं। ये संयोग है या प्रयोग है। राहुल गांधी ने ट्वीट करते हुए लिखा है, जब जब देश भावुक हुआ, फ़ाइलें ग़ायब हुईं।

माल्या हो या राफ़ेल, मोदी या चोक्सी. गुमशुदा लिस्ट में लेटेस्ट हैं चीनी अतिक्रमण वाले दस्तावेज़। ये संयोग नहीं, मोदी सरकार का लोकतंत्र-विरोधी प्रयोग है। राहुल गांधी यहीं नहीं रुके उन्होंने पीएम मोदी के एक ट्वीट का स्क्रीनशॉट शेयर करते हुए एक और ट्वीट किया है। दरअसल, पीएमओ की तरफ से पीएम मोदी का एक बयान ट्वीट किया गया था। पीएम मोदी ने कहा, भारत छोड़ो के ये सभी संकल्प स्वराज से सुराज की भावना के अनुरूप ही हैं।

इसी कड़ी में आज हम सभी को ‘गंदगी भारत छोड़ो’ का भी संकल्प दोहराना है।आइए, आज से 15 अगस्त तक यानि स्वतन्त्रता दिवस तक देश में एक सप्ताह लंबा अभियान चलाएं। क्यों नहीं! हमें तो एक कदम आगे बढ़कर, देश में लगातार बढ़ती असत्य की गंदगी भी साफ़ करनी है। क्या प्रधानमंत्री चीनी आक्रमण का सत्य देश को बताकर इस सत्याग्रह की शुरुआत करेंगे?

पीएम मोदी के इस ट्वीट का स्क्रीनशॉट शेयर करते हुए राहुल गांधी ने लिखा है, क्यों नहीं! हमें तो एक कदम आगे बढ़कर, देश में लगातार बढ़ती असत्य की गंदगी भी साफ़ करनी है। क्या प्रधानमंत्री चीनी आक्रमण का सत्य देश को बताकर इस सत्याग्रह की शुरुआत करेंगे? गौरतलब है कि बीते मंगलवार को रक्षा मंत्रालय की वेबसाइट पर अपलोड किए गए नए दस्तावेज में बताया गया कि बीजिंग पक्ष ने कुगरांग नाला (हॉट स्प्रिंग्स के उत्तर में पैट्रोलिंग पॉइंट-15 के पास) गोगरा (पीपी-17ए) और पैंगोंग त्सो के उत्तरी तट के क्षेत्रों में 17-18 मई को सीमा क्षेत्र का उल्लंघन किया। हालांकि बाद में रक्षा मंत्रालय ने अपनी वेबसाइट से यह दस्तावेज हटा लिए। इस मुद्दे को लेकर कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने पीएम मोदी पर हमला बोला था। राहुल गांधी ने ट्वीट कर कहा था कि रक्षा मंत्रालय की साइट से चीन की घुसपैठ को स्वीकार करने वाले दस्तावेज को हटाने से सच नहीं बदलेगा। राहुल गांधी ने चीनी घुसपैठ संबंधी रिपोर्ट को ट्वीट कर सवाल उठाया कि पीएम मोदी झूठ क्यों बोल रहे हैं।

loading...
Loading...

Check Also

ऑनलाइन क्लास से डरे माता पिता, सुप्रीम कोर्ट में गाइडलाइन्स के लिए डाली याचिका

नई दिल्ली। देश की सर्वोच्‍च अदालत के सामने अब एक जनहित याचिका (PIL) दायर की …