Main Sliderउत्तर प्रदेश

हकीकत: उरई में पुलिस प्रताड़ना से मरने वाली युवती की कहानी, उसकी सहेली की जुबानी

उरई। उत्तर प्रदेश के जालौन जिले के उरई में नीशू व उसकी दोनों सहेलियों के साथ आठ घंटे तक उरई कोतवाली में कैसे और क्या पूछताछ हुई। किन-किन पुलिस वालों ने क्या-क्या सवाल किए और फिर कैसे उन्हें घर जाने दिया। नीशू की सहेली मोहिनी चौधरी ने पुलिस के जुल्म की दास्तां सुनाई तो लोगों की आंखें नम हो गईं।

मोहिनी का कहना था कि जब पुलिस वालों से पीने के लिए पानी मांगा तो गालियां देकर पिटाई की गई। रामनगर निवासी मोहिनी पुत्री सूरज चौधरी ने बताया कि वह अपने उमरारखेड़ा निवासी सहेली शिवानी के साथ घर से राशन लेने के लिए निकली थी। तभी माहिल तालाब के पास शिवानी ने कहा कि उसे अपना मोबाइल ठीक कराना है। इस पर वे दोनों दुकान में मोबाइल ठीक कराने लगीं। उसी वक्त पड़ोस में रहने वाली सहेली नीशू भी वहां पहुंच गई।

जब मोबाइल ठीक नहीं हुआ तो वहीं से गुजर रहे शिवानी के भाई ने तीनों से कहा कि बलदाऊ चौक स्थित दुकान पर चली जाओ वहां मोबाइल ठीक हो जाएगा। इसके बाद वे तीनों उक्त दुकान पर पहुंचे और अभी मोबाइल ठीक ही करा रहे थे कि दुकान में खड़े लड़के उनकी फोटो खींचने लगे। नीशू समेत उन तीनों ने विरोध किया और इसी बीच पुलिस भी पहुंच गई। मोहिनी के मुताबिक, पुलिस की जीप में एक-दो महिला सिपाही के अलावा पुरुष पुलिसकर्मी थे। रास्ते में ही पुलिस ने गालियां देनी शुरू कर दी थीं।

बताया कि इसके बाद कोतवाली में बने एक कमरे में ले जाकर पूछताछ शुरू कर दी। कभी कोई पुरुष पुलिसकर्मी चोरी गए पर्स में रखे पासपोर्ट के बारे में पूछता तो महिला सिपाही इससे पहले कहां-कहां चोरी का सवाल उठातीं। बार-बार एक ही जैसे सवाल उन तीनों से किए जा रहे थे। नीशू बार-बार यही जवाब दे रही थी कि यदि उसने पर्स उक्त मोबाइल की दुकान से दो तीन दिन पहले ही चोरी किया होता तो वह दोबारा क्यों दुकान पर जाती, लेकिन पुलिस वाले थे कि मानने को तैयार नहीं थे।

मोहिनी ने बताया कि करीब 7-8 घंटे चली पूछताछ के दौरान सिर्फ पानी मांगने पर ही महिला सिपाहियों ने गालियां देने के बाद पानी दिया। हर बात पर गालियां दीं और मारपीट भी महिला सिपाहियों ने की, लेकिन कुछ भी खाने को नहीं दिया और रात 10 बजे के आसपास कोतवाली से जाने दिया।

महिला सिपाही के भरोसे की आठ घंटे पूछताछ
मामला चाहे चोरी के आरोप का हो या फिर पुलिस प्रताड़ना का, पूरे मामले में अफसर सवालों के घेरे में हैं। जवाब देने से अब पुलिस अधिकारी कतरा रहे हैं। जिले में जब एक महिला थाना और दो-दो महिला दरोगा तैनात हैं, तो कोतवाली पुलिस को क्या जरूरत थी कि वह तीन युवतियों को कोतवाली में आठ घंटे तक बैठाकर पूछताछ करती। यदि अधिकारी थोड़ी सी सतर्कता बरतते तो युवतियों को कोतवाली लाने के बजाए कुछ ही दूरी पर स्थित महिला थाना भेजा जाता।

शिकायतकर्ता पुलिस का करीबी
बलदाऊ चौक के जिस मोबाइल विक्रेता की शिकायत पर पुलिस तीनों युवतियों को पकड़कर कोतवाली लाई थी, वह पुलिस का करीबी है। आसपास के दुकानदारों का कहना है कि कोतवाली से पुलिस अधिकारियों के लिए नया मोबाइल हो या कोई पार्ट्स सभी उक्त दुकान से ही लेते है। युवती की मौत के बाद मामला अब पुलिस के गले की फांस बन गया है। लिहाजा पुलिस कह रही कि जिस पर्स के चोरी करने का शक युवतियों पर था, उसमें एक पासपोर्ट भी था, जिस कारण ही पूछताछ की जा रही थी। पुलिस अब मोबाइल दुकान में लगे कैमरे भी खंगाल रही है, ताकि चोरी के शक की बात को साबित किया जा सके। इसके अलावा पुलिस का यह भी तर्क है कि कोतवाली से नीशू आराम से निकली थी, उसे टार्चर नहीं किया गया था। इसके बाद घरवालों ने उसके साथ रात में मारपीट की है, जिस कारण ही उसने फांसी लगाई है।

मां ने लगाया दस हजार रुपये मांगने का आरोप
कोतवाली के बाहर मौजूद नीशू की मां लौंगन देवी ने बताया कि दरोगा योगेंद्र पाठक बेटी को छोड़ने के लिए उससे दस हजार रुपये की मांग भी कर रहे थे। कह रहे थे कि पहले रुपये दो फिर बेटी को जाने देंगे। पुलिस ने दुकान पर बेटी की फोटो खींचने वाले को भी कोतवाली बुलाया और उससे रुपये लेकर उसे छोड़ दिया। सहेली मोहिनी के परिजन भी पुलिस पर रुपये मांगने का आरोप लगा रहे हैं।

चीखों से गूंजी कोतवाली, दरोगा को घेरा
पुलिस प्रताड़ना से क्षुब्ध नीशू के शनिवार सुबह घर पर फांसी लगाकर आत्महत्या करने से बदहवास मां लौंगन देवी की चीखें कोतवाली के गेट से लेकर भीतर तक गूंजती रहीं। जहां कोई दरोगा और अधिकारी उसे दिख जाता, वह हाथ जोड़कर रोते हुए उसके पीछे चल देती। बेटी का नाम लेकर बार-बार चीखती रही और दरोगा और सिपाही पर बेटी को मारने का आरोप लगाकर अधिकारियों से इंसाफ मांगती रही।

मां की बदहवासी देख साथ आए लोगों की भी आंखें नम हो रही थीं। यही हाल नीशू की बड़ी बहन वंदना और पिता कल्लू का भी था। वह भी रो रोकर हर अधिकारी से हाथ पांव जोड़कर बेटी की मौत पर इंसाफ की मांग करते पूरे दिन कोतवाली के अंदर-बाहर दौड़ते रहे। इसी बीच दरोगा संतराम कुशवाह को वहां बैठी महिलाओं ने यह कहकर घेर लिया कि जिस वक्त पुलिस कमरे में युवतियों को बंद कर रखा था, उस वक्त उन लोगों ने दरोगा से मदद मांगी थी, लेकिन वह पूरी तरह से मदद भी न कर पाए थे।

उधर, बसपा नेताओं ने परिजनों की ओर से पुलिस को जो तहरीर दी है, उसमें चोरी के शक का कोई जिक्र नहीं है। लिखा है कि नीशू के साथ बाजार में कुछ लड़कों ने छेड़खानी की, तब किसी की सूचना पर पहुंचे चौकी इंचार्ज योगेश पाठक और चार सिपाही बेटी व उसकी सहेलियों को लेकर कोतवाली आ गए, जहां पर उसके साथ मारपीट की गई, जिससे क्षुब्ध होकर ही बेटी ने फांसी लगा जान दे दी। तहरीर देने वालों में बसपा जिलाध्यक्ष संजय गौतम, शैलेंद्र शिरोमणि आदि रहे।

बिटिया को दई गारी औउर पट्टा से भी मारिन
मां लौंगन देवी ने बताया कि आठ घंटे तक पुलिस वाले बिटिया को कमरे में बंद किए रहे और उसे पानी भी नहीं पीने दिया। बिटिया को दई गारी औउर पट्टा से भी मारिन, जिससे बिटिया काफी परेशान थी। घर आकर उसने रात में कुछ खाया-पीया नहीं। कितने अरमान थे कि बेटी की डोली उठाएंगे, लेकिन क्या पता था कि उसकी अर्थी को कंधा देना पड़ेगा।

loading...
Loading...

Related Articles

Back to top button