लाइफ स्टाइल

डायबिटीज की बीमारी को लेकर है टेंशन तो भोजन में शामिल करें फाइबर और हमेशा रखे इन बातों का ध्यान

डायबिटीज में अपना ध्यान रखना बहुत जरूरत होती है। डायबिटीज बीमारी से बचने के लिए अपना शुगर लेवल कंट्रोल करना जरूरी है। जब शुगर लेवेल कंट्रोल नहीं रहता है तो डायबिटीज से खतरे की आशंका कम हो जाती है। इस बीमारी के दो स्तर होते हैं, जैसे टाइप-1 डायबिटीज जो खतरे को बढ़ा सकती है। इसे रोकने में मुश्किल होती है। वहीं टाइप -2 डायबिटीज को रोका जा सकता है। इसके लिए व्यक्ति को स्वस्थ्य भोजन और कई तरह के उपायों को अपनाना जरूरी होता है। टाइप -2 डायबिटीज के होने के कई कारण होते हैं जैसे व्यक्ति का मोटापा और अस्वस्थ्य भोजन। आइये बताते हैं कि डायबिटीज को रोकने के लिए आपको क्या करना चाहिए।

एक्सरसाइज करना
एक्सरसाइज करना किसी भी व्यक्ति के शरीर के लिए बेहद फायदमेंद होता है। ये डायबिटीज को रोकने में भी मदद करता है। एक्सरसाइज कोशिकाओं के इंसुलिन संवेदनशीलता को नियमित करता है। आपको रोजाना एक्सरसाइज करना चाहिए। इससे डायबिटीज का खतरा कम होता है।

सोडा या पैक्ड जूस न पिएं
अगर आप दिन भर में पैक्ड वाला जूस पीते हैं तो उस अभी से ही छोड़ना बेहतर है क्योंकि उसमें शुगर की मात्रा ज्यादा होती है। इसलिए पूरे दिन में अगर आप जूस वगैरह पीते हैं तो उसे पानी से बदल लीजिए। सोडा या पैक्ड जूस में शुगर ज्यादा होता है जो आपको डायबिटीज के खतरे को बढ़ा सकता है। इसलिए दिन भर आपको पानी पीते रहना चाहिए। ये आपके शरीर को डिटॉक्स करने में मदद करेगा।

भोजन में शामिल करें फाइबर
डायबिटीज के मरीज को जरूरी है कि वे अपने डायट में फाइबर को शामिल करें। इससे पाचन का प्रोसेस सही रहता है जो ब्लड लेवेल को मैंटेन करता है। फाइबर स्वस्थ ब्लड शुगर लेवल को बनाए रखने में भी मदद करता है। यह आपके दिल के स्वास्थ्य के लिए भी फायदेमंद है और वजन बढ़ने से रोकता है।

वजन को बढ़ने न दें
दरअसल मोटापा मधुमेह के खतरे को और बढ़ा देता है। मोटापा खतरे का सबसे बड़ा कारण है। रिसर्च में पाया गया है कि जिन लोगों का वजन स्वस्थ होता है उनमें डायबिटीज का खतरा कम होता है जबकि जो लोग मोटे होते हैं उनमें डायबिटीज का खतरा ज्यादा होता है।

लक्षण आने पर लें डॉक्टर की सलाह
डायबिटीज के लक्षणों को पहचानना बेहद जरूरी होता है। रोजाना एक्सरसाइज करना, पानी ज्यादा पीना और शुगर कम लेना व हेल्थ को मैंटेन रखना तो जरूरी है। लेकिन इसके बावजूद आपको ये भी देखना चाहिए कि आप में डायबिटीज के लक्षण दिखाई दे रहा है या नहीं। अगर आपको लक्षण महसूस कर रहे हैं तो आपको तुरंत डॉक्टर से सलाह लें।

टाइप -2 डायबिटीज के लक्षण
अगर आपको डायबिटीज है तो आपमें ये लक्षण दिखाई देंगे। -बार पेशाब आना, प्यास का बढ़ना, थकान, धुंधली दृष्टि, घावों की धीमी गति से उपचार, हाथों और पैरों में झुनझुनी, त्वचा के गहरे धब्बे और बढ़ती हुई भूख शामिल हैं।

loading...
Loading...

Related Articles

Back to top button