Wednesday, September 30, 2020 at 6:22 AM

मुंबई में 100 परिवार एक दो दिन नहीं बल्कि पूरे 12 साल से अंधेरे में ही जीवन बसर कर रहे

 

मुंबई।(हरि गोबिन्द विश्वकर्मा) : क्या आप यकीन करेंगे कि देश में कहीं दूर दराज या आदिवासी इलाके में नहीं, बल्कि 24 घंटे बिजली से गुलजार रहने वाली देश की आर्थिक राजधानी मुंबई में 100 परिवार एक दो दिन नहीं बल्कि पूरे 12 साल से अंधेरे में ही जीवन बसर कर रहे हैं। दरअसल, 2005 में बिल्डर ने इन सबको एसआरए का फ्लैट तो दे दिया लेकिन उसने ओसी नहीं दी, जिससे रिलांयस इनर्जी ने इन लोगों को मीटर देने से ही मना कर दिया था और 12 साल से लोग बिना बिजली के फ्लैट में रह रहे थे।

यह मामला मालाड पश्चिम के भुजाले तालाब के पास एसआरए बिल्डिंग कावेरी कोऑपरेटिव हाउसिंग सोसाइटी का है, जहां एसआरए के 100 फ्लैटधारक पिछले 12 साल से बिजली से वंचित हैं। पिछले बीएमसी चुनाव में यहां से नगरसेवक चुने जाने के बाद भारतीय जनता पार्टी की जया सतनाम तिवाना

कावेरी बिल्डिंग में गई और उन लोगों के साथ दिंडोशी में रिलांयस एनर्जी के कार्यालय में गई। लेकिन उनके आग्रह के बावजूद रिलायंस एनर्जी के अधिकारियों ने साफ-साफ कह दिया कि इन एसआरए इमारतों को ओसी नहीं मिली है, लिहाजा, बिना ओसी के बिजली देना संभव नहीं।

श्रीमती तिवाना ने हिम्मत नहीं हारी और कावेरी के निवासी के साथ बुधवार की सुबह भाजपा के वरिष्ठ नेता और उत्तर मुंबई के लोकसभा सांसद गोपाल शेट्टी से मिलीं और उन्हें पूरी बात बताई। श्री शेट्टी उसी समय उन सभी को साथ लेकर रिलांयस कार्यालय पहुंच गए। इसके बाद गोपाल शेट्टी के नेतृत्व में भाजपा के लोग रिलांयस कार्यालय के सामने धरने पर बैठ गए जिसमें श्रीमती तिवाना, भाजपा उत्तर-पश्चिम मुंबई अध्याक्ष विनोद शेलार, पूर्व नगरसेवक, सतनाम सिंह तिवाना, पूर्व नगरसेवक ज्ञानमूर्ति शर्मा, भाजयुमो महासचिव तेजिंदर सिंह तिवाना और कावेरी के निवासी शामिल थे।

श्री शेट्टी ने घोषणा कर दी कि जब तक बिजली कनेक्शन देने की लिखित सूचना नहीं दे दी जाती वह धरने से नहीं उठेंगे। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ‘सुभाग्य योजना’ के तहत देश के हर नागरिक को बिजली उपलब्ध करवा रहे हैं और यहां मुंबई में लोगों को बिजली नहीं मिल रही है। श्री शेट्टी ने कहा कि ‘सुभाग्य योजना’ के तहत कावेरी के निवासियों को भी बिजली मिलनी चाहिए। सांसद के धरने पर बैठने से वहां अफरा-तफरी मच गई। अंत में रिलायंस एनर्जी सभी 100 लोगों को मीटर कनेक्शन देने पर राजी हो गया। रिलांयस अफसरों ने कहा कि मीटर के लिए फॉर्म भरवाने की औपचारिकता पूरी करते ही मीटर कनेक्शन दे दिए जाएंगे।

बहरहाल, इसके बाद श्री शेट्टी और श्रीमती तिवाना ने सभी 100 फ्लैटधारकों के फार्म भरवाकर रिलांयस दफ्तर में जमा करवा दिया। रिलांयस अधिकारियों ने फॉर्म लेते हुए जल्दी से जल्दी मीटर लगवाने का आश्वासन दिया और कहां कि दो तीन दिन में सभी 100 घरों में मीटर लगा कर बिजली कनेक्शन दे दिया जाएगा। इस तरह मालाड के 100 फ्लैटधारकों के घर में शीघ्र ही बिजली के बल्ब जलेंगे।

loading...
Loading...