Friday, December 4, 2020 at 10:08 PM

कोरोना से जंग में बची हैं ये तीन चुनौतियां, कैसे राहत भरा है अक्टूबर

नई दिल्ली। देश में कोरोना वायरस के संक्रमण के नए मामले लगातार घट रहे हैं। पिछले सात दिनों के दौरान रोज संक्रमण के मामले 65 हजार से कम दर्ज किए गए। वहीं, गुरुवार को लगातार चौथे दिन नये मामलों की संख्या 60,000 से नीचे रही। सितंबर के मुकाबले अक्टूबर में जहां टेस्ट की संख्या बढ़ी, वहीं मामलों के पॉजिटिव आने की दर 2.5 फीसदी घट गई। सक्रिय मामले भी 10 फीसदी से नीचे बने हुए हैं। स्वस्थ होने की दर भी 89.20 फीसदी है। विशेषज्ञों के मुताबिक, इन सभी राहत भरे रुझानों के बावजूद चुनौतियां बरकरार हैं। उनका कहना है कि त्योहारों का मौसम आ चुका है और ठंड दस्तक देने वाली है। ऐसे में जरा सी लापरवाही संक्रमण बढ़ने का बड़ा खतरा पैदा कर सकती है।

पिछले 24 घंटे में 55,839 नए कोरोना मामले दर्ज किए गए और 702 संक्रमितों की मौत हुई। इस अवधि में 79,415 मरीज ठीक भी हुए हैं। देश के 22 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में 20,000 से कम सक्रिय मामले हैं। केवल केरल, कर्नाटक और महाराष्ट्र में 50,000 से ज्यादा सक्रिय मामले दर्ज हो रहे हैं। सबसे ज्यादा सक्रिय केस महाराष्ट्र में हैं।

देश में मृत्यु दर और सक्रिय मामलों की दर में भी लगातार गिरावट दर्ज की जा रही है। मृत्यु दर गिरकर 1.51% हो गई। इसके अलावा सक्रिय मामले जिनका इलाज चल है उनकी दर भी 10 फीसदी से कम है। वल्र्डोमीटर के मुताबिक, सक्रिय मामले और कोरोना संक्रमितों की संख्या के हिसाब से भारत दुनिया का दूसरा सबसे प्रभावित देश है। मौत के मामले में अमेरिका और ब्राजील के बाद भारत तीसरे स्थान पर है।

तीन बड़ी चुनौतियां
1. त्योहार : विशेषज्ञों ने चेताया है कि त्योहारों में भीड़ से कोरोना वायरस संक्रमण के मामले बढ़ सकते हैं। उन्होंने लोगों को त्योहार मनाते वक्त कई सावधानी बरतने की सलाह दी है। बाजार में भीड़-भाड़ से बचने को कहा है। त्योहारों में संक्रमण के केस बढ़ने का मामला केरल में देखा जा चुका है, जहां ओणम के बाद मामले लगातार बढ़ रहे हैं।

2. मौसम : ऐसी कई रिपोर्ट और स्टडी सामने आ चुकी हैं, जिनमें दावा किया गया है कि ठंड के मौसम में कोरोना वायरस के मामलों में वृद्धि आ सकती है। स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन का कहना है कि कोरोना एक रेस्पिरेट्री वायरस है और ऐसे वायरस को ठंड के मौसम में बढ़ने के लिए जाना जाता है। रेस्पिरेट्री वायरस ठंड के मौसम और कम आर्द्रता की स्थिति में बेहतर तरीके से पनपते हैं। यूरोप और अमेरिका इसके बड़े उदाहरण हैं। यहां ठंड शुरू होते ही पहली लहर के मुकाबले रोज नए मामलों में बढ़ोत्तरी दर्ज की जा रही है। फ्रांस में तो गर्मियों के मुकाबले ज्यादा केस दर्ज किए जा रहे हैं।

3. वैक्सीन : फिलहाल दुनिया में कोरोना की न तो कोई दवा और न ही कोई वैक्सीन मौजूद है। अगले साल फरवरी तक इसके आने की उम्मीद है। ऐसे में संक्रमण से बचने के लिए सावधानी बहुत जरूरी है। देश में कोरोना वैक्सीन पर वैज्ञानिकों की उच्च स्तरीय टीमें निरंतर जुटी हुई है। देसी कोरोना वैक्‍सीन कोवैक्सीन का आखिरी ट्रायल अगले महीने से शुरू होने वाला है। ऐसे में इसके फरवरी तक आने की उम्मीद जताई जा रही है।

अक्तूबर में मामले घटे
16 से 22 सितंबर
• 16 सितंबर 2020 : 90,123
• 17 सितंबर 2020 : 97,894
• 18 सितंबर 2020 : 96,424
• 19 सितंबर 2020 : 93,337
• 20 सितंबर 2020 : 92,605
• 21 सितंबर 2020 : 86,961
• 22 सितंबर 2020 : 75,083

औसत मामले : 90347

16 अक्तूबर 2020 : 63,371
•17 अक्तूबर 2020 : 62,212
•18 अक्तूबर 2020 : 61,871
•19 अक्तूबर 2020 : 55,722
•20 अक्तूबर 2020 : 46,790
•21 अक्तूबर 2020 : 54,044
•22 अक्तूबर 2020 : 55,839

औसत मामले : 57122

अक्तूबर में टेस्ट बढ़े
16 सितंबर 2020 : 10,89,206 : 12.08 (पॉजिटिविटी दर)
17 सितंबर 2020 : 10,90,185 : 11.13
•18 सितंबर 2020 : 10,67,767 : 11.07
•19 सितंबर 2020 : 10,37,862 : 11.19
•20 सितंबर 2020 : 10,57,162 : 11.41
•21 सितंबर 2020 : 10,21,881 : 11.75
•22 सितंबर 2020 : 10,01,930 : 13.34

औसत टेस्ट : 1001930

16 अक्तूबर 2020 : 10,28,622 : 6.16 (पॉजिटिविटी दर)
17 अक्तूबर 2020 : 09,99,090 : 6.23
•18 अक्तूबर 2020 : 9,70,173 : 6.38
•19 अक्तूबर 2020 : 8,59,786 : 6.48
•20 अक्तूबर 2020 : 10,32,795 : 4.53
•21 अक्तूबर 2020 : 10,83,608 : 4.99
22 अक्तूबर 2020 : 14,69,984 : 3.80
औसत टेस्ट : 1063437

सितंबर
कुल टेस्ट : सितंबर : 33245237
पॉजिटिविटी दर : 8.5 प्रतिशत

अक्तूबर (21 अक्तूबर तक)
कुल टेस्ट : 22726737
पॉजिटिविटी दर : 6.0 प्रतिशत

अंतर : 2.5 फीसदी गिरी पॉजिटिविटी दर

267 दिनों में 10 करोड़ टेस्ट
एक करोड़ : छह जुलाई 2020 (30-01-2020 को पहला मामला आने के 158वें दिन बाद)
दो करोड़ : दो अगस्त (27 दिन)
तीन करोड़ : 16 अगस्त (14 दिन)
चार करोड़ : 28 अगस्त (12 दिन)
पांच करोड़ : 07 सितंबर (10 दिन)
छह करोड़ : 16 सितंबर (नौ दिन)
सात करोड़ : 25 सितंबर (नौ दिन)
आठ करोड़ : 05 अक्तूबर (10 दिन)
नौ करोड़ : 13 अक्तूबर (आठ दिन)
दस करोड़ : 22 अक्तूबर (नौ दिन)

भारत में (पिछले सात दिनों में)
दुनिया : 321
भारत : 297
ब्राजील : 692
अमेरिका : 1195
फ्रांस : 2529

दस लाख लोगों में मौतें भी सबसे कम
दुनिया : 143
भारत : 84
ब्राजील : 725
अमेरिका : 660
फ्रांस : 511

 

loading...
Loading...