Friday, November 27, 2020 at 2:28 PM

बहुजन चिंतक राम सुमन बाराबंकी के परिनिर्वाण पर विशेष अनुष्ठान सम्पन्न

सीतापुर. बहुजन समाज पार्टी का प्रथम लोक सभा चुनाव जनपद बाराबंकी से तथा अपनी पत्नी कमला देवी को लड़ाने वाले तथा भारतीय बौद्ध महासभा के प्रथम जिलाध्यक्ष बहुजन चिंतक, लेखक, एडवोकेट राम सुमन बाराबंकी का रविवार सायं 5 बजे परि,निर्वाण हो गया था। उनका जन्म दिनांक 23 दिसम्बर 1947 को जनपद बाराबंकी मे हुआ था। उन्होनें हाईस्कूल नेशनल इंटर कॉलेज फतेहपुर बाराबंकी तथा इंटर राजकीय इंटर कॉलेज बाराबंकी से किया।आगे की पढाई के लिए वे लखनऊ गए। लखनऊ से विद्यान्त हिन्दू डिग्री
कॉलेज से स्नातक किया। उन्होने विधि स्नातक जय नरायन डिग्री कॉलेज लखनऊ से किया।इसके साथ ही आयुर्वेद रत्न की भी उपाधि प्रयाग विश्वविद्यालय से ली।इस दौरान वे 1965 में नेशनल इंटर कॉलेज हिंदी विभाग के छात्र संघ अध्यक्ष भी रहे।1968 मे छात्र जीवन मे ही बेगार प्रथा के विरुद्ध आन्दोलन के तहत भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के सक्रिय कार्यकर्ता भी रहे।उनका हिन्दी आन्दोलन में भी सक्रिय योगदान रहा।1970 मे विद्यान्त हिन्दू डिग्री कॉलेज लखनऊ के इतिहास विभाग के अध्यक्ष रहे।
वर्ष 1980 से 1985 तक बामसेफ बाराबंकी के सह सँयोजक भी रहे।1996 में आर्यावर्त ग्रामीण
बैंक के कर्मचारी संघ के संस्थापक अध्यक्ष रहे। 1997 मे
आर्यावर्त ग्रामीण बैंक अधिकारी संघ के संस्थापक सदस्य भी रहे।1997 से 2007 तक बैंक की सेवा तथा 2007 मे सेवानिवृत्त होने के बाद वर्तमान में अध्यक्ष भारतीय बौद्ध
महासभा उत्तर प्रदेश ( पंजीकृत) थे। 2009 से विविध व्यवसाय मे भी थे।2016 से लगातार तबियत खराब होने के बावजूूूद बौद्ध महासभा के संरक्षक के तौर पर कार्य कर रहे थे।उनके निधन से बौध समाज मे शोक व्यापत है।उनके 2 पुत्र, पुत्रियां, बहु और दामाद हैं। 4 बच्चे जिसमें 2 पुत्र, पुत्रवधुएँ, 2 पुत्रियाँ दमाद हैं। बड़ी पुत्री डॉक्टर नीलम चौधरी दामाद डॉक्टर मुकेश कुमार पुत्र एडवोकेट दीपक कुमार, गीता पुत्री अलका उमा शंकर पुत्र डॉक्टर बलबीर सिंह विदिशा चाचा हरीश चौधरी चाची कीर्ति सिंह चाचा शिवराम सहित अन्य लोग मौजूद थे। भंते अशोक प्रज्ञा जी ने पूजा सम्पन्न कराई। इस मौके पर बौध महासभा के सभी पदाधिकारी मौजूद रहे।

loading...
Loading...