Friday, December 4, 2020 at 9:41 AM

मध्यप्रदेश में लॉकडाउन…

मध्यप्रदेश। शिवराज ने यह भी कहा कि‍ जहां स्थिति ज्यादा खराब है और कोविड 19 पाजिटिविटी रेट 5 प्रतिशत से ज्यादा है वहां नाइट कर्फ्यू लग सकता है। उल्‍लेखनीय है देश के कई शहरों में दीवाली के बाद अचानक कोरोना के मरीजों की संख्या बढ़ गई है। इन शहरों में मध्य प्रदेश के भोपाल और इंदौर शहर भी शामिल हैं। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने शुक्रवार को आला अधिकारियों की बैठक बुलाकर हालातों का जायजा ल‍िया।

माना जा रहा है कि कोरोना के बढ़ते केस देखते हुए ज्यादा संक्रमण वाले इलाकों के लिए नई गाइडलाइन जारी की जा सकती है। सभी की नजर प्रदेश के दो सबसे बड़े शहरों, भोपाल और इंदौर की गाइडलाइन को लेकर भी है। त्योहारी सीजन खत्म होने के बाद नियमों को लेकर सख्ती का दौर शुरू हो गया है।

प्रदेश के गृह नरोत्तम मिश्रा ने अपने ट्वीट में बताया, प्रदेश में #Covid_19 के बढ़ते मामले चिंता का विषय हैं। इस समय हर नागरिक को सावधान रहने की जरूरत है। सरकार ने सावधानीऔर सुरक्षा के लिहाज से सारे विकल्प खुले रखे हैं। इस संबंध में गृह विभाग सभी जरूरी निर्णय आज शाम तक लेगा।

मास्क नहीं पहनने पर इंदौर में होगी कार्रवाई

मध्य प्रदेश की आर्थिक राजधानी इंदौर से खबर है कि कोरोना रोकथाम के मद्देनजर शुक्रवार से नगर निगम मास्क नहीं पहनने वालों पर फिर कार्रवाई शुरू करने जा रहा है। मास्क नहीं पहनने वालों के खिलाफ चालानी कार्रवाई होगी। इस संबंध में नगर निगम के सभी अधिकारियों और कर्मचारियों को मास्क अनिवार्य रूप से पहनने के निर्देश दिए जा चुके हैं। निगमायुक्त प्रतिभा पाल ने ये आदेश जारी किए हैं। अपर आयुक्त देवेंद्रसिंह को आदेश का पालन सुनिश्चित करने को कहा गया है। अपर आयुक्त ने सभी जोन के जोनल अधिकारियों और सीएसआइ को दिनभर कार्रवाई कर शाम को रिपोर्ट बताने को कहा है। अधिकिरियों को पूरी सख्ती से स्पॉट फाइन करने के निर्देश जारी किए जा चुके हैं।

जानिए मध्य प्रदेश के बड़े शहरों का हाल

जबलपुर: शहर मुख्यालय सहित देश में कोरोना संक्रमण फैलने से रोकने सैन्य अफसर और जवान लगातार प्रयास कर रहे हैं। इसलिए सैन्य प्रशासन ने आर्मी क्षेत्र में बीते 8 माह से सिविलियन की आवाजाही पर लगभग रोक लगा दी है।

भोपाल: पिछले सालों तक जो लोग बड़े होटलों में शादी करने की इच्छा रखते थे, वे ज्यादा खर्च के चलते मन मारकर अपने बजट के हिसाब से मैरिज गार्डन, धर्मशाला या मांगलिक भवन में शादी करते थे। लेकिन अब कोरोना के प्रभाव के चलते लोग कम खर्च में होटलों में शादी करने का प्लान बना रहे हैं।

loading...
Loading...