Main Sliderअंतरराष्ट्रीय

पाक पर 73 अरब डॉलर से ज्यादा का कर्ज, अमेरिका ने दी है चेतावनी

नई दिल्ली। फ्रेजाइल स्टेट्स इंडेक्स 2017 की रिपोर्ट में पाकिस्तान को 20 असफल देशों की लिस्ट में रखा गया है और उसे कई कड़ी नसीहतें भी दी गई हैं। इस रिपोर्ट में कहा गया है कि पाकिस्तान को पड़ोसी देशों में आतंकी भेजकर वहां अस्थिरता फैलाने की जगह खुद को बर्बादी से बचाने पर ध्यान देना चाहिए। रिपोर्ट में कहा गया है, ‘पाकिस्तान खुद ही अनुकूल परिस्थितियों और ऐसे पड़ोसियों से घिरा है, जो उसके लिए खतरा बन सकते हैं। हालांकि, पाकिस्तान के समक्ष प्रमुख खतरा उसके आंतरिक बलों, विरोधाभासी मानसिकता, सैन्य प्रभुत्व, भ्रष्टाचार और अनुपयुक्त नेताओं, विभिन्न राष्ट्रीयताओं, बढ़ रही आबादी, घटते जल संसाधन और बिगड़ रही आर्थिक स्थिति से है। ये ताकतें पाकिस्तान के पतन का कारण बन सकती हैं।

पाकिस्तान ने पड़ोसी देशों के खिलाफ छद्म युद्ध
पाकिस्तान ने भारत और अफगानिस्तान के खिलाफ धीमा युद्ध छेड़ रखा है और उसने इसके लिए लश्कर-ए-तैयबा (एलईटी), जैश-ए-मोहम्मद (जेईएम), हिजबुल मुजाहिदीन (एचएम), हरकत-उल-मुजाहिदीन (एचयूएम), सिपह-ए-साहब पाकिस्तान (एसएसपी), अहले सुन्नत वल जमात (एएसडब्ल्यूजे), लश्कर-ए-झांगवी और तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान (टीटीपी) जैसे आतंकवादी संगठन खड़े किए।

अमेरिका ने दी है चेतावनी
रिपोर्ट में कहा गया है, ‘इससे पहले पाकिस्तान का सबसे बड़ा आर्थिक अनुदानकतार् अमेरिका ने हाल ही में पाकिस्तान को उसकी नीतियां बदलने की चेतावनी दी थी। अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने यह भी कहा था कि पाकिस्तान आतंकवादियों का सुरक्षित ठिकाना बना हुआ है। पाकिस्तान को अब चीन से वह आर्थिक मदद मिल रही है। उम्मीद है कि चीन-पाकिस्तान आर्थिक गलियारे (सीपीईसी) के लिए चीन 50 अरब डॉलर से अधिक का निवेश करेगा। संभावना है कि चीन, पाकिस्तान के कई हिस्सों को स्वयं में मिला लेगा, क्योंकि पाकिस्तान इतने बड़े कर्ज को चुकाने में कभी सक्षम नहीं होगा।

पाक पर 73 अरब डॉलर से ज्यादा का कर्ज
रिपोर्ट में बताया गया है, ‘पाकिस्तान की जीडीपी दर तीन फीसदी है। उसे 73 अरब डॉलर और उससे अधिक का कर्ज चुकाना है। नियार्त घट रहा है, जबकि आयात बढ़ रहा है। देश की शिक्षा प्रणाली डगमगा गई है। विश्वभर के आतंकवादी प्रशिक्षण लेने के लिए पाकिस्तान पहुंच रहे हैं और बम बनाकर तबाही फैला रहे हैं। पाकिस्तान की डगमगाती शिक्षा प्रणाली को पूरी तरह से बदलने की जरूरत है, ताकि देश को टूटने से बचाया जा सके।

रिपोर्ट में दी गई है यह सलाह
रक्षा बजट को कम करना चाहिए और शिक्षा, परिवार नियोजन और स्वास्थ्य क्षेत्र पर अधिक धनराशि खर्च करनी चाहिए। नागरिक संस्थानों को मजबूत करना चाहिए और सेना को बैरकों में लौटना चाहिए। आईएसआई की शक्तियों को कम करनी चाहिए और पाकिस्तान को सभी आतंकवादी प्रशिक्षण केंद्रों को नष्ट करना पड़ेगा। सभी देश के लोगों की जायज शिकायतों का निवारण करना चाहिए और शियाओं सहित अल्पसंख्यकों के अधिकारों को सुनिश्चित करना चाहिए।

आतंक पर लगाए अंकुश
पाकिस्तान ने आतंकवादियों के खिलाफ कई अभियान शुरू किए हैं, लेकिन इन अभियानों के वांछित नतीजे पाकिस्तान तबाही की ओर बढ़ रहा है। यदि आतंकवादी देश पर पकड़ बना लेते हैं तो यह सिर्फ पाकिस्तान के लिए नहीं, बल्कि विश्व के लिए भी खतरनाक होगा। पाकिस्तान के शासकों को देश को इस खतरे से बचाने के लिए व्यापक नीति बनानी चाहिए।

loading...
Loading...

Related Articles

Back to top button