Monday, March 8, 2021 at 8:27 PM

लखवी को मुंबई हमले का जिम्मेदार ठहराया जाए:अमेरिकी विदेश मंत्रालय

वाशिंगटन :पाकिस्तान में शुक्रवार को टेरर फंडिंग मामले में आतंकी जकीउर रहमान लखवी कोपांच साल की सजा सुनाई गई है, लेकिन इस फैसले से अमेरिका खुश नहीं है और अमेरिकी विदेश मंत्रालय ने कहा है कि लखवी को मुंबई आतंकी हमले समेत कई आतंकी हमलों के लिए जिम्मेदार ठहराया जाए.

अमेरिकी विदेश मंत्रालय ने ट्वीट के जरिए कहा है कि जकीउर रहमान लखवी को हाल में सुनाई गई सजा हम प्रोत्साहित हैं. हालांकि, उसके अपराध टेरर फंडिंग से बहुत ज्यादा हैं. पाकिस्तान को मुंबई हमलों सहित कई आतंकवादी हमलों में शामिल होने के लिए उसे जिम्मेदार ठहराना चाहिए.

लखवी की गिरफ्तारी के बाद पिछले दिनों भी अमेरिकी विदेश मंत्रालय ने उसे मुंबई हमले का जिम्मेदार ठहराए जाने की बात कही थी. अमेरिकी विदेश मंत्रालय ने ट्वीट कर कहा था कि हम पाकिस्तान के आतंकी सरगना जकीउर रहमान लखवी की गिरफ्तारी का स्वागत करते हैं. हम उसके अभियोजन और सजा सुनाए जाने को लेकर बारीकी से नजर रखेंगे और अनुरोध करेंगे कि उसे मुंबई हमले में शामिल होने के लिए जिम्मेदार ठहराया जाए.

आतंकी जकीउर रहमान लखवी को शुक्रवार को टेरर फंडिंग मामले में पांच साल की सजा सुनाई गई. लखवी को तीन अलग-अलग मामलों में पांच-पांच साल की सजा सुनाई गई है. हालांकि ये तीनों सजाएं एक साथ चलेंगी यानी कि कुल पांच साल की जेल. सभी रिपोर्ट में लखवी को 15 साल की सजा देने की बात कही गई.

जकीउर रहमान लखवी को टेरर फंडिंग से जुड़े एक मामले में बीते दिनों ही गिरफ्तार किया गया था, लाहौर की एंटी टेररिज्म कोर्ट ने शुक्रवार को उसकी सजा का ऐलान किया. लखवी साल 2008 में मुंबई में हुए आतंकी हमले का मास्टरमाइंड भी था.

लखवी के खिलाफ टेरर फंडिंग का मामला दर्ज है. उस पर आरोप था कि वह डिस्पेंसरी के नाम पर पैसा इकट्ठा करता था और उसका इस्तेमाल आतंकी गतिविधियों में करता था. मुख्य रूप से इसका इस्तेमाल नए आतंकियों को तैयार करने में किया जाता था.

लश्कर आतंकी लखवी को संयुक्त राष्ट्र द्वारा भी आतंकी घोषित किया जा चुका है, जो लंबे वक्त से गिरफ्तारी से बच रहा था. लेकिन पिछले दिनों FATF की बैठक से पहले पाकिस्तान में उस पर एक्शन लिया गया और पकड़ लिया गया.

मुंबई में हुए आतंकी हमले के मामले में हाफिज सईद के साथ लखवी भी आरोपी है. इस मामले में भी उसे जेल हुई थी, लेकिन 2015 से ही वो जमानत पर बाहर है. बीते दिनों हुई उसकी गिरफ्तारी पर अमेरिका की ओर से भी संतोष जाहिर किया गया था.

Loading...