Friday, March 5, 2021 at 3:05 AM

45 ग्राम पंचायतों के भावी प्रधान उम्मीदवारों का फहराने लगा परचम

45 ग्राम पंचायतों के भावी प्रधान उम्मीदवारों का फहराने लगा परचम
– सरोजनीनगर विकासखंड
पंकज प्रजापति
सरोजनीनगर,  लखनऊ । राजधानी क्षेत्र के विकास खण्ड सरोजनीनगर के 45 ग्राम पंचायत चुनाव की तैयारियां  तेज होती नजर आने लगी । वहीं प्रधानी का चुनाव लड़ने वाले सभी उम्मीदवारों को सरोजनीनगर क्षेत्र में आरक्षण सूची का उम्मीदवारों को बेसब्री से इंतजार है । सरोजनीनगर विकास खण्ड के ग्राम पंचायत चुनाव होने वाले हैं। जिसके लिए प्रशासन द्वारा तैयारियां बहुत तेजी से चल रही है।  इससे क्षेत्र के भावी प्रत्याशी अपने क्षेत्रों में उतारने में आरक्षण सूची का बेसब्री से ग्राम पंचायतों के उम्मीदवारों को इन्तज़ार है  । अपने क्षेत्रों में राजनीति में आरक्षण सूची प्राप्त न होने पर ग्राम पंचायतों में उम्मीदवार चुनाव लडने की तैयारी कर रहे है । जब कि अभी तक आरक्षण सूची शासन द्वारा प्रकाशित नही हुई । फिर भी चुनाव लड़ने के लिए अपने अपने क्षेत्रों में उम्मीदवारों की लड़ने की संख्या बहुत होने लगी । हालांकि वहीं उम्मीदवारों ने लोगों को लोभाने के लिए लोगों के घरों पर बैठकर अपना परचम लहराने लगे । अगर मेरी सीट आती है तो हमें जिताने का काम करेंगे । जैसा आप कहेंगे वैसा ही हम आपके अनुसार ही कार्य करेंगे लेकिन इस बार अवश्य जिताएगा । जिससे लोगोंं को जीतने के बाद क्षेत्र में विकास हो सके । वही सरोजनीनजर में अब तक 70 ग्राम पंचायतें थी । जिसमें शासन कि मंशा के अनुरूप ग्राम पंचायतों को शहरी क्षेत्र में शामिल किया है । शहरी क्षेत्र में शामिल किए गए गांवों में जिन्हे नगर निगम में शामिल किया गया है । उनमें है अहमामऊ , बिजनौर , हरिहरपुर , अशरफ नगर इठुरिया , यूसुफ नगर, बरौना ,सरसवां , निजामपुर मझिगवां , मीरानपुर पिंनवट ,सदरौना , कमलापुर , हसनपुर खेवली , अनौरा , समदा खेड़ा ,नटकुर , मुज्जफनगर घुस वल , विरुरा ,कल्ली पश्चिम बीस ग्राम पंचायतों को नगर निगम की सीमा में शामिल कर शहरी कारण के विस्तारीकरण में जोड़ दिया गया है । यही नहीं इसी तरह शहरी कारण के तहत पांच ग्राम पंचायतों को नगर पंचायत में शामिल किया गया है ।जिसमे बंथरा को नगर पंचायत बनाया गया है । इनके साथ किशुनपुर कौड़ियां , खांदे देव , औरावां रामचौरा आदि पांच ग्राम पंचायतों को नगर पंचायत का दर्जा दिया गया है । सरोजनीनगर विकासखंड क्षेत्र के गांव शहरी क्षेत्र में शामिल थे ।ग्राम पंचायतों में रहने वाले ग्राम प्रधान जो अपनी क्षेत्र में कुछ हैसियत रखते थे । वह पर चुनाव लडने की स्थिति में नहीं रह गए है । जिनकी कुछ अच्छी हैसियत है वह अब नगर निगम के चुनाव में पार्षद पद का चुनाव लडने की योजना बनाएंगे । ग्राम पंचायतों की बची सीटों पर ग्राम प्रधान पद पर चुनाव लड़ने की भावी प्रत्याशियों ने मन तो बना रहे है । लेकिन अब कौन सी ग्राम पंचायत किस जाति के लिए आरक्षित होगी ।इसके लिए भावी प्रत्याशियों द्वारा अब गांवों में अटकलें लगनी शुरू हो गई है और भावी प्रत्याशियों द्वारा ग्राम पचायतो में बैठको का दौर जारी है । इस तरह सरोजनीनगर की ग्राम पंचायतों को तीन हिस्से में शासन स्तर पर विभाजित किया गया है । पहला ग्रामीण क्षेत्र में ग्राम पंचायतों में ,दूसरा शहरी क्षेत्र को नगर निगम व तीसरा क्षेत्र भी शहरी क्षेत्र के अंतर्गत  नगर पंचायत ने शामिल किया गया है । इस तरह सरोजनीनगर विकासखंड का दायरा भी अब कम हो गया है । अब तक सरोजनीनगर विकासखंड में नगर निगम व नगर पंचायत क्षेत्र में कोई भी गांव शामिल नहीं था ।
Loading...