Monday, March 8, 2021 at 6:45 AM

 इस साल, सिर्फ 46 दिन बजेगी शहनाई, देखें पूरी लिस्ट

मकर संक्राति पर सूर्यदेव अपने पुत्र शनिदेव की मकर राशि में प्रवेश करने के साथ ही मलमास भले ही खत्म हो गया हो, लेकिन मांगलिक कार्यों के लिए अभी लोगों को करीब साढ़े तीन महीने इंतजार करना पड़ेगा। 19 जनवरी को गुरु का तारा लग जाएगा। इससे पहले 16 जनवरी को गुरु वृद्धत्व दोष शुरू हो गया। ऐसे में मांगलिक कार्यों पर विराम लग गया। मांगलिक कार्य अब 23 अप्रेल के बाद ही शुरू हो पाएंगे। इस साल यानी वर्ष 2021 में केवल छह महीने ही शादी-ब्याह या अन्य मांगलिक कार्य हो पाएंगे। इन छह महीने में भी केवल 46 दिन ही शादी-ब्याह के मुहूर्त है।

इस साल अप्रैल में ही 4 दिन विवाह मुहूर्त हैं। इसके बाद मई में सबसे अधिक 12 दिन शहनाई बजेगी। वहीं जून में 10 दिन विवाह मुहूर्त है। जुलाई में सिर्फ 5 दिन सावे है। इसके बाद देव सौ जाएंगे और फिर नवंबर में देव उठनी एकादशी से फिर मांगलिक कार्य शुरू होंगे। नवंबर में 7 दिन और दिसंबर में भी सिर्फ 8 दिन ही विवाह मुहूर्त है।

पं. बंशीधर ज्योतिष पंचांग के ज्योतिषाचार्य दामोदर प्रसाद शर्मा ने बताया कि 19 जनवरी को गुरु का तारा लग जाएगा। इससे पहले 16 जनवरी को गुरु का वृद्धत्व दोष शुरू हो गया। ऐसे में 16 जनवरी से मांगलिक कार्यों में विराम लग गया। 16 फरवरी को गुरु का तारा उदय होगा, लेकिन इससे पहले ही 14 फरवरी को शुक्र का तारा अस्त हो जाएगा। शुक्र का तारा 20 अप्रेल को उदय होगा। इसके बाद तीन दिन तक शुक्र का बाल्यत्व दोष बना रहेगा। ऐसे में 23 अप्रेल के बाद ही मांगलिक कार्य शुरू हो पाएंगे।

20 जुलाई से मांगलिक कार्यो पर फिर से लगेगा विराम
सम्राट पंचांग के ज्योतिषाचार्य डॉ. रवि शर्मा ने बताया कि इस साल 23 अप्रेल से 20 जुलाई तक और फिर इसके बाद नवंबर और दिसंबर में ही शादी-ब्याह हो पाएंगे। मांगलिक कार्यों पर 20 जुलाई से विराम लग जाएगा। 20 जुलाई को देवशयपी एकादशी मनाई जाएगी। ऐसे में मांगलिक कार्यों में फिर से विराम लग जाएगा। इसके बाद 14 नवंबर को देश उठनी एकादशी पर मांगलिक कार्य फिर से शुरू होंगे।

Loading...