Main Sliderकानपुर

गोरखपुर में अपने गुरु हार से कार्यकर्ता ने खाना-पानी छोड़ दिया उतरा ​इस अनोखी जिद पर…

कानपुर। बबुआ और बुआ जी के खेमे में गोरखपुर व फूलपुर उपचुनाव जीतने के बाद खुशी का माहौल है। दूसरी तरफ, बीजेपी के इस सक्रिय कार्यकर्ता ने खाना-पानी तक छोड़ दिया। गांव में जब इसने समाधि लेने की घोषणा की तो सैकड़ों लोग इकठ्ठा हो गए। लोगों के काफी समझाने के बाद उसने 7 घंटे बाद समाधि में लीन रहने के बाद बाहर निकला। उसकी इस दीवानगी देख हर कोई हैरान है। अपने गुरु की सीट हारने से आहत एक बीजेपी कार्यकर्ता ने कुछ समय के लिए समाधि लेकर सबको आश्चर्य में डाल दिया। यह कार्यकर्ता योगी आदित्यनाथ को अपना गुरु मानता है। वो गोरखपुर जाकर घर-घर वोट भी मांग चुका है।

कानपुर के महाराजपुर थाना क्षेत्र के रहने वाले अरुण कुमार बीजेपी कार्यकर्ता हैं। बीते 16 वर्षों से वह बीजेपी संगठन के लिए काम कर रहे हैं। ये योगी आदित्यनाथ को अपना गुरु मानते हैं। जब योगी मुख्यमंत्री नहीं थे तब भी वह गोरखपुर जाकर उनका आशीर्वाद लेता था।

अरुण शुक्रवार को गंगा के किनारे गया और गड्ढा खोद कर खुद को बालू से ढंक लिया। उपचुनाव का जब से रिजल्ट आया है उसने खाना-पानी छोड़ दिया था। उस दौरान घरवालों ने समझाकर खाना खिलाया था। लेकिन अभी भी वो बीजेपी की इस हार को भुला नहीं पा रहा है।

अरुण ने बताया कि गोरखपुर की सीट मेरे गुरु जी की रही है। यह सीट हाथ से फिसल जाने से मैं बहुत आहत हूं। इसी वजह से मैंने समाधी लेने का फैसला किया था। 7 घंटे खुद को रेत में ढंककर रखा था। लोगों के समझाने के बाद बाहर आया।

loading...
Loading...

Related Articles