Main Sliderराष्ट्रीय

LIVE: कर्नाटक में होने वाले विधानसभा चुनावों के लिए आज इलेक्शन कमीशन तारीखों का एलान, ये बड़े मुद्दे…


नई दिल्ली। भाजपा यहां लिंगायत को अलग धर्म का दर्जा देने भ्रष्टाचार और हिंदुत्व को मुख्य मुद्दा बना रही है। वहीं कांग्रेस केंद्र की मोदी सरकार और राज्य की पिछली येदियुरप्पा सरकार की नाकामियां गिना रही है। मौजूदा सरकार का कार्यकाल 28 मई को पूरा हो रहा है। कर्नाटक में होने वाले विधानसभा चुनावों के लिए आज इलेक्शन कमीशन तारीखों का एलान कर सकता है। यहां 224 सीटों पर एक फेज में वोटिंग की उम्मीद है। फिलहाल राज्य में कांग्रेस की सरकार है। सिद्धारमैया मुख्यमंत्री हैं।

ये 3 बड़े मुद्दे

राज्य की कांग्रेस सरकार ने इन्हें धार्मिक अल्पसंख्यक का दर्जा दिया। भाजपा का आरोप कि यह सिद्धारमैया को मुख्यमंत्री बनने से रोकने की कोशिश। वे इसी समुदाय से आते हैं।

भाजपा का आरोप सिद्धारमैया सरकार हिंदू विरोधी है, बीते पांच साल में राज्य में 24 संघ कार्यकर्ताओं की हत्या हुई। राहुल गांधी और अमित शाह दोनों ही यहां लिंगायत और दलितों के मंदिरों-मठों में जा रहे हैं।

सुप्रीम कोर्ट का बड़ा फैसला- खाप पंचायक का किसी भी शादी पर रोक लगाना अवैध…

फरवरी के आखिरी हफ्ते में राज्य के दौरे पर आए नरेंद्र मोदी ने सिद्धारमैया सरकार को ‘सीधा रुपैया’ सरकार कहा था। उन्होंने कहा कि कोई भी काम हो यहां पैसा ही चलता है। वहीं कांग्रेस भाजपा की पिछली येदियुरप्पा सरकार पर भ्रष्ट होने का आरोप लगा रही है।

3)5 बड़े चेहरे

नरेंद्र मोदी
2014 के लोकसभा चुनाव वाले मोदी मैजिक के फिर चलने की उम्मीद। तब भाजपा को राज्य की 28 में से 17 सीटें मिली थीं। वोट शेयर 42.4% रहा था।

राहुल गांधी
गुजरात चुनाव के बाद अपनी इमेज बदलने में कुछ हद तक कामयाब रहे। पार्टी अध्यक्ष बनने के बाद यह उनका चौथा विधानसभा चुनाव है। इससे पहले उन्होंने त्रिपुरा, नगालैंड और मेघालय में कैम्पेनिंग की थी। कांग्रेस मेघालय में सरकार नहीं बचा पाई थी।

सिद्धारमैया
राज्य के मुख्यमंत्री हैं। सरकार बचाने की चुनौती है। भाजपा उन पर करप्शन और हिंदू विरोधी होने का आरोप लगा रही।

अमित शाह
राज्य में भाजपा को कामयाबी दिलाने में कोई कसर नहीं छोड़ना चाहते। उन्होंने 16 केंद्रीय मंत्रियों, 24 सांसदों समेत 55 लोगों की एक टीम तैयार की है। जिसे मार्च के आखिर तक रिपोर्ट देनी है। शाह ने 16 केंद्रीय मंत्रियों को चार-चार विधानसभा सीटों का जिम्मा दिया है। खुद भी एक महीने में दूसरी बार राज्य के दौरे पर पहुंचे हैं।

बीयूएमएस डॉक्टर की गला रेतकर हत्या…

बीएस येदियुरप्पा
भाजपा के मुख्यमंत्री उम्मीदवार हैं। डेढ़ साल में दो बार पूरे कर्नाटक का दौरा कर चुके हैं। लिंगायतों में मजबूत पकड़।

कर्नाटक में वोक्कालिगा और लिंगायत अहम क्यों?

50% विधायक और सांसद अब तक इन्हीं कम्युनिटी से आते रहे हैं।

224 मौजूदा सदस्यों में 55 वोक्कालिगा और 52 लिंगायत कम्युनिटी से हैं।

100 सीटों पर लिंगायत और 80 सीटों पर वोक्कालिगा कम्युनिटी असर डालती है।

14 मुख्यमंत्री (8 लिंगायत और 6 वोक्कालिगा) राज्य में दोनों कम्युनिटी से हुए हैं।

loading...
Loading...

Related Articles