Main Sliderअंतरराष्ट्रीय

चीन एक बार फिर डरा भारत से कहा भारत ने तोड़ा भरोसा

इंटरनेशनल डेस्क: भारत चीन सीमा पर भारतीय सेना की बढ़ रही तैनाती को लेकर चीन ने जिंता जताई है। उनके अनुसार भारत के उकसावे वाली गतिविधियों के कारण दोनों देशों के आपसी भरोसे की नींव नष्‍ट हो जाएगी और द्विपक्षीय संबंध भी कमजोर हो जाएंगे। चीन के एक विश्लेषक ने यह बात कही है। इससे पहले भारत के अधिकारियों ने बताया कि था कि डोकलाम जैसी घटनाओं की पुनरावृत्ति रोकने के लिए भारत, चीन, म्यामां के ट्राई- जंक्शन क्षेत्र में गश्त बढ़ाने के लिए हिमालय क्षेत्र में सैनिकों की तैनाती की गई है।

भारत-चीन संबंध होंगे कमजोर
सीमा पर भारतीय सैनिकों की तैनाती में वृद्धि पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए शंघाई इंस्टीट्यूट फॉर इंटरनेशनल स्टडीज में सेंटर फॉर एशिया पैसिफिक स्टडीज के निदेशक झाओ गांचेंग ने कहा कि सीमा पर भारत के‘‘ उकसावे’’ से पारस्परिक विश्वास की नींव‘‘ ध्वस्त’’ होगी और द्विपक्षीय संबंध कमतर होंगे। उन्होंने कहा कि भारत सीमा पर अपनी सैन्य तैनाती बढ़ा रहा है क्योंकि उसे कभी यह विश्वास नहीं हुआ कि सीमावर्ती क्षेत्र शांतिपूर्ण रहेगा। झाओ ने कहा कि पारस्परिक सैन्य अविश्वास अंतत: राजनयिक, अर्थव्यवस्था और सांस्कृतिक आदान- प्रदान सहित सभी क्षेत्रों में भारत-चीन संबंधों को कमजोर करेगा।

भारत ने सैनिकों की बढ़ाई तैनाती
भारतीय अधिकारियों ने कहा कि तिब्बत क्षेत्र के पास भारत के सुदूर पूर्वी वालोंग शहर से करीब 50 किलोमीटर दूर स्थित ट्राई जंक्शन भारत के लिए अत्यंत महत्वपूर्ण है जिससे कि उसे पास के पर्वतीय दर्रों तथा अन्य क्षेत्रों में अपना प्रभुत्व बनाए रखने में मदद मिल सके। पिछले साल भारत और चीन के सैनिकों के बीच डोकलाम में 73 दिन तक गतिरोध चला था। भारतीय सैनिकों ने चीनी सैनिकों को विवादित क्षेत्र में सड़क बनाने से रोक दिया था।16 जून को शुरू हुआ यह गतिरोध 28 अगस्त को समाप्त हुआ था। डोकलाम गतिरोध के बाद से भारत ने चीनी सीमा से लगते क्षेत्रों में अधिक सैनिकों की तैनाती कर दी है और गश्त बढ़ा दी है।

loading...
Loading...

Related Articles

PHP Code Snippets Powered By : XYZScripts.com