Monday, March 8, 2021 at 8:17 PM

साइबर ठगों ने जेबीएम मल्टी रिचार्ज एप्प से दुकानदारों को लगाया लाखों का चूना


हरदोई। यूपी के हरदोई जिला में साइबर क्राइम करने वालों ने एक बार फिर ऐसा कारनामा कर दिया, जिससे लोगों के लाखों रुपए ही गायब हो गए। मल्टी रिचार्ज करने की कंपनी के ऐप के जरिए पहले रिचार्ज मनी ट्रांसफर की गई। जब दुकानदारों का भरोसा जम गया तो अचानक ऐप बंद हो गया। उसमें ट्रांसफर किया गया सारा का सारा बैलेंस शून्य हो गया। इससे मोबाइल बाजार में हड़कंप मच गया।

अपना तो ऐप काम कर रहा है और आप के बाजार में उतरे जेबीएम कर्मचारी खोजे मिल रहे हैं। मोबाइल दुकानदारों ने बताया कि 6 मार्च 2018 को कथित युवक राहुल आया था। उसने अपने जेबीएम एप के बारे में मोबाइल शॉप वालों को बताया और मनी ट्रांसफर करके दिखाया एप्प बेहतर काम कर रहा था। ऐप में ट्रांसफर से लेकर सभी कंपनियों के मोबाइल सबकुछ जा रहा था। एक ही एप्प से बैलेंस के जरिए सभी मोबाइल कंपनियों के टीवी और डिश रिचार्ज हो रही थी।

एक एप्प से सारी सुविधाएं मिलती देख सभी ऐप को लोड कर लिया। उसमें ट्रांसफर हुए रुपए से रिचार्ज शुरू कर दिया। बताया कि कथित जेवीएम मनी ट्रांसफर एप्प वालों ने 12 अप्रैल तक पूरे जिले में लाखों रुपए ट्रांसफर किए। लेकिन 12 अप्रैल की शाम अचानक हड़कंप मच गया। जब ऐप ने काम करना बंद कर दिया। उसमें ट्रांसफर सारा बैलेंस शून्य हो गया। जहां भी रिचार्ज किया गया वहां सब बंद हो गया। कई दिनों तक इंतजार के बाद कोई रास्ता नहीं निकला। सभी मोबाइल कारोबारी एकजुट हुए साइबर क्राइम करने वाले की खोजबीन शुरू कर दी।

बताया गया कि देव टेलीकॉम, बालाजी इंटरप्राइजेज, ए टू जेड, भानु मोबाइल रिचार्ज का काम करने वाले के लाखों रुपए डूब गए। अब मामला पुलिस तक जा पहुंचा है। लेकिन पुलिस के लिए यह सब अनोखी कहानी की तरह है। कथित राहुल आखिर कहां गायब हो गया। जेबीएम एप्प के बाजार में लाने वाला कथित राहुल ने किसी को हरदोई का तो किसी को मेरठ, नोएडा और गाजियाबाद पता बताया। राहुल 730877534 मोबाइल नंबर से बात करता था पर ऐप पर रिचार्ज मनी ट्रांसफर करता था तो ग्राहक को मोबाइल पर 9068252265 मोबाइल नंबर लिखकर आता था।

लेकिन अब राहुल के दोनों ही मोबाइल बंद हो गए हैं। हलाकि दुकानदारों के यहां लगे सीसीटीवी कैमरे में कथित राहुल की तस्वीर कैद है। बताया जा रहा है कि राहुल 8% कमीशन देता था। जेबीएम एप्प से जारी करने वाले ने बड़ी ही शातिर अंदाज में काम किया। बाजार में उसने जो मनी ट्रांसफर की उस पर पहले उसे 4% से नगद पर छूट की स्कीम दे दी। जिस पर उसने 8% कमीशन दे दिया। जबकि मोबाइल शॉप के लोग बताते हैं कि अन्य कंपनियों में महेश 2 से 3% ही रिचार्ज बैलेंस पर कमीशन देती है। मोटे कमीशन के झांसे में और एक शानदार काम की वजह से सब झांसे में आ गए और ठगी का शिकार हो गए।

Loading...