Main Sliderमुजफ्फरनगर

ई रिक्शा से लगने वाले जाम से नागरिक परेशान

मुजफ्फरनगर। वाहनों के बोझ तले दबी सड़कें दिन निकलते ही जाम से कराह उठती हैं। जाम की समस्या नागरिकों के लिए नासूर बन गई है। इसका मुख्य कारण अवैध रूप से दौड़ रही ई-रिक्शा बनी है। विडंबना यह है कि रिक्शाओं को दौड़ने का लाइसेंस मिलता है, जबकि प्रशासन के साथ ट्रैफिक विभाग इन्हें रूट देने में विफल है। मनमर्जी से चालक ई-रिक्शाओं का संचालन कर रहे हैं। इससे स्थिति अधिक भयावह बनी है। शहर की लाइफ लाइन में शामिल मेरठ रोड़, रुड़की रोड पर बड़ी मार्केट बसी है। शिव चैक से भगत सिह रोड आदि पर प्रमुख बाजार है। यहां जैसे-जैसे दिन चढ़ता है वाहनों का दबाव बढ़ता जाता है। इसके अलावा महावीर चैक, प्रकाश चैक, कचहरी मार्ग पर वाहनों की अधिक संख्या रहने से यातायात रेंग उठता है। मुसीबत झांसी रानी चैक पर टाउन हाल रोड पर बनती है। यहां इक्का-दुक्का सिपाहियों को लगाकर कार्य कराया जाता है। हालात ई-रिक्शाओं के कारण बिगड़ते हैं। नगर क्षेत्र के साथ ग्रामीण क्षेत्रों से आने वाले लोग ई-रिक्शा का प्रयोग करते हैं, लेकिन ई-रिक्शाओं का रूट तय नहीं है। पंजीकृत के साथ अवैध रूप से दौड़ने वाले ई-रिक्शा परेशानी का सबब बने हैं।
मनमर्जी से चालक जहां-तहां ब्रेक लगाने के साथ ई-रिक्शा दौड़ाते हैं। जनपद में २६६६ ई-रिक्शा पंजीकृत हैं, जबकि इनकी संख्या चार हजार से अधिक है। इनके संचालन के लिए प्रशासन ने कोई मार्ग तक तय नहीं किया है। परेशानी बने हैं बेतरतीब खड़े वाहन

loading...
Loading...

Related Articles