Main Sliderमेरठ

ग्रामीण अंचलीय मीडिया एसोसियेशन का पत्रकार सम्मेलन एवं संगोष्ठी आयोजित

मेरठ। जिला पंचायत अध्यक्ष कुलविन्दर सिंह ने कहा कि पत्रकार एक सैनिक की भांति सजग होकर कार्य करता है। पत्रकारिता की विश्वसनीयता बनाये रखने के लिए पत्रकार को सच्चाई व पारदर्शिता का विशेष ध्यान रखना चाहिये। श्री सिंह ने यह उद्गार ग्रामीण अंचलीय मीडिया एसोसियेशन के तत्वाधान में अपार चैम्बर में आयोजित एक पत्रकार सम्मेलन एवं संगोष्ठी में प्रमुख अतिथि के रूप में व्यक्त किये।
उन्होंने कहा कि आज हर व्यक्ति के दिन के शुरूआत एक समाचार पत्र के पढने से होती है। पत्रकारिता समाचार का समाज पर बहुत असर होता है इसलिये पत्रकारिता को समाज का दर्पण भी कहा जाता है। विश्वसनीयता सिर्फ समाचारों के संकलन में नहीं बल्कि उसे प्रस्तुत करने और विश्लेषित करने की आवश्यकता है।

पत्रकार सम्मेलन एवं संगोष्ठी में प्रमुख अतिथि उपजिलाधिकारी मवाना अंकुर श्रीवास्वत ने कहा कि नैतिकता व विश्वनीयता की पत्रकारिता की अपेक्षा अन्य पेशों में ज्यादा कमी आई है, लेकिन पत्रकारिता भी अविश्वनीयता से अछूती नही है। उन्होंने कहा कि शहरी पत्रकारिता की अपेक्षा ग्रामीण पत्रकारिता अधिक संघर्षशील होती है। पत्रकारिता के पेशे में भीड़ दिखायी देती है लेकिन आय के कम स्रोत कम होने के कारण पत्रकारिता के पेशे में विश्वनीयता कम हो रही है। उन्होंने कहा कि समाचार में तथ्यों व सत्यता का आधार होना परम आवश्यक चाहिये।
पत्रकार सम्मेलन एवं संगोष्ठी में मुख्य अतिथि ग्रामीण अंचलीय मीडिया एसोसियेशन के राष्ट्रीय अध्यक्ष अरविन्द मोहन शर्मा ने कहा कि पत्रकारिता में विश्वनीयता की गिरावट नहीं है कुछ समाचार पत्रों ने व्यवसायिकता के दौर में पत्रकारिता की विश्वनीयता पर प्रश्न चिन्ह लगाया है।
पत्रकार सम्मेलन एवं संगोष्ठी के अध्यक्ष दैनिक युवा रिपोर्टर के सम्पादक इन्द्र मोहन आहूजा ने पत्रकारिता को लोकतन्त्र का चैथा स्तम्भ पुकारा जाता है किन्तु आधिकारिक रूप से लोकतन्त्र के तीन ही स्तम्भ उल्लेखित किए गए हैं – विधायिका, न्यायपालिका, कार्यपालिका। लेकिन श्लोक स्वीकार्य ने इसे चैथा स्तम्भ बना दिया। तीनों स्तम्भों पर अंकुश बनाये रखने वाली पत्रकारिता को चैथा स्तम्भ कहा गया है। चैथा खम्भा ही जनता की आवाज बनता है।

पत्रकार सम्मेलन एवं संगोष्ठी में नानक चन्द कालेज के प्रोफेसर दीपक शर्मा, पत्रकार धर्मेन्द्र तोमर, अशोक गोस्वामी ने भी विचार व्यक्त किये। सम्मेलन एवं संगोष्ठी का आयोजन वरिष्ठ पत्रकार सतीश चन्द्र शर्मा ने तथा संचालन डा0 मेघराज सिंह ने किया। कार्यक्रम में समाज हित में कार्य करने वाले पत्रकारों एवं छात्र छात्राओं को भी स्मृति चिन्ह प्रदान कर सम्मानित किया गया।
कार्यक्रम में पत्रकार राजीव शर्मा, अनिल शर्मा, सुधीर रस्तौगी, जोगेन्द्र भारती, एसके शर्मा, जगदीश उपाध्याय, मुकेश गुप्ता, हश्मे आलम, अर्चित गोयल, अभय शर्मा,ललित गोस्वामी विजय यादव, सुरेश धैय्या, राशिद सहित अनेक पत्रकार बन्धु उपस्थित रहे।

loading...
=>

Related Articles