अन्य खबर

भारत में 50 साल में आधी भाषाएं हो सकती हैं खत्म!

आने वाले 50 सालों में भारत में 1.3 बिलियन लोगों द्वारा बोली जा रहीं भाषाओं में आधे से अधिक भाषाएं लुप्‍त हो जाएंगी। ये बात एक सर्वे के आधार पर कही गई है

ये सर्वे People’s Linguistic Survey of India (PSLI) ने किया है इसमें देश में बोली जाने वाली भाषाओं से संबंधित तथ्‍य सामने रखे गए हैं रिपोर्ट में कहा गया है कि भारतीय 780 विभिन्‍न भाषाएं बोलते हैं

पीएसएलआई के चेयरमैन जीएन डेवी ने कहा, ‘अगले 50 सालों में करीबन 400 भाषाएं लुप्‍त हो सकती हैं यानी उनका वजूद खत्‍म हो जाने की आशंका है उन्‍होंने ये भी कहा कि जब कोई भाषा खत्‍म होती है तो उसके साथ कल्‍चर की भी मौत होती है भारत में पिछले पांच दशकों में 250 भाषाएं समाप्‍त हो चुकी हैं अब पीएसएलआई ने सुझाव दिया है कि आखिर किस तरह इसे बचाया जा सकता है

रिपोर्ट में कहा गया है कि ज्‍यादा खतरा उन भाषाओं को है जो ट्राइबल समुदायों से जुड़ी हैं उनके बच्‍चे जब स्‍कूल जाते हैं तो उन्‍हें भारत की मान्‍य 22 भाषाओं में से ही किसी एक या दो भाषाओं को पढ़ाया जाता है

loading...
Loading...

Related Articles

PHP Code Snippets Powered By : XYZScripts.com