Main Sliderगोरखपुर

रेलकर्मी अनुशासित होकर कार्य करें, जिससे लक्ष्य समय से प्राप्त किये जा सकें: गोहांई


गोरखपुर। रेल राज्य मंत्री श्री राजेन गोहांई ने गोरखपुर में पूर्वोत्तर रेलवे के महाप्रबन्धक श्री राजीव अग्रवाल, अपर महाप्रबन्धक श्री एस.एल.वर्मा तथा प्रमुख विभागाध्यक्षों के साथ पूर्वोत्तर रेलवे की समीक्षा बैठक की।

समीक्षा बैठक को सम्बोधित करते हुये रेल राज्य मंत्री राजेन गोहांई ने रेल राजस्व में वृद्धि के लिये माल लदान को बढ़ाने पर बल दिया। उन्होंने कहा कि इसे अपने नियोजित प्रयासों से हम माल लदान में वृद्धि कर सकते हैं। हमें माल लदान के नये क्षेत्रों की पहचान कर उन्हें रेलवे की ओर आकर्षित करना होगा तथा अधिक आटोमोबाइल लदान हेतु अधिक एन.एम.जी. रेकों का उत्पादन करना होगा। मानव त्रुटि से होने वाली समय-पालन ह्यस एवं दुर्घटनाओं को दूर करने पर बल दिया। उन्होंने कहा कि रेलकर्मी अनुशासित होकर कार्य करें, जिससे की सभी लक्ष्य समय से प्राप्त किये जा सकें।

उन्होंने रेल गाड़ियों के समय पालन पर चर्चा करते हुये कहा कि जिन बड़े स्टेशनों पर सम्भव हो वहाँ प्लेटफार्मों की संख्या बढ़ाई जाय, जिससे अधिक से अधिक गाड़ियाँ प्लेटफार्मों पर रिसीव की जा सकें। उन्होंने कहा कि जो गाड़ियाँ नियमित रूप से लेट चल रही हों उनका संचलन समय दुरूस्त किया जाय । यात्री सुविधाओं में सुधार एवं विस्तार पर प्रकाश डालते हुये श्री गोहांई ने कहा कि स्टेशनों पर वाटर वेण्डिंग मषीनों की संख्या बढ़ाई जाय, जिससे कि यात्रियों को शुद्ध पेय जल आसानी से उपलब्ध कराया जा सके। उन्होंने कहा कि स्टेशनों एवं रेल परिसर में उच्चस्तरीय साफ-सफाई रखी जाय और उनका नियमित रूप से मानिटरिंग की जाय।

श्री गोहांई ने कहा कि आज देषवासियों को भारतीय रेल से काफी अपेक्षायें हैं और इन अपेक्षाओं पर खरा उतरने के लिये हमें नियोजित रूप से प्रयास करना है। रेल कर्मचारी सभी चुनौतियों का सामना करने में सक्षम हैं। इसके लिये वे प्रषंसा के योग्य हैं। भारतीय रेल में भर्ती नये कर्मचारियों की काउंसिलिंग की जाय, ताकि वे अपनी पूरी ऊर्जा के साथ कार्य करें जिससे भारतीय रेल नई ऊचाईयों पर पहुँच सके।
इसके पूर्व, 23 जून,2018 को माननीय रेल राज्य मंत्री श्री राजेन गोहांई ने अपर महाप्रबन्धक श्री एस.एल.वर्मा के साथ देवरिया सदर रेलवे स्टेषन पर यात्री सुविधाओं एवं साफ-सफाई का गहन निरीक्षण किया ।

loading...
=>

Related Articles