टेक मित्र

स्कॉडा के नेतृत्व में भारत में 1 अरब यूरो का निवेश करेगा फॉक्सवैगन समूह

नई दिल्ली। स्कॉडा ऑटो ने सोमवार को अपनी ’इंडिया-2.0’ परियोजना की शुरुआत की घोषणा की। कम्पनी ने कहा है कि इस परियोजना के कार्यान्वयन के लिए फॉक्सवैगन समूह की ओर से भारत में एक अरब यूरो का निवेश किया जाएगा। इस परियोजना के तहत स्कॉडा ऑटो और फॉक्सवैगन साथ मिलकर भारतीय बाजार के लिए नए मॉडल विकसित करेंगे। स्कॉडा ऑटो के सीईओ बर्नार्ड मायर तथा स्कॉडा ऑटो इंडिया प्राइवेट के प्रबंध निदेशक गुरप्रताप बोपाराय ने कहा कि इस परियोजना के हिस्से के रूप में सबसे पहले मध्य-आकार के एसयूवी मॉडल का विकास होगा और इसे इसे वर्ष 2020 में प्रदर्शित किया जाएगा। आगे से स्कॉडा जितने भी नए नए उत्पाद भारतीय बाजार में उतारेगा उनका तकनीकी विकास भारत में ही होगा।

मायर तथा बोपाराय ’इंडिया 2.0’ परियोजना के विवरणों पर प्रकाश डालते हुए कहा कि आने वाले समय में भारतीय बाजार में फॉक्सवैगन समूह के योजनाबद्ध मॉडल अभियान के संचालन की जिम्मेदारी स्कॉडा ऑटो की होगी। फॉक्सवैगन समूह मुख्य रूप से वर्ष 2019 से वर्ष 2021 के बीच परियोजना के कार्यान्वयन की दिशा में एक अरब यूरो का निवेश करेगा।

साथ ही उत्पादों के भारतीय बाजार हेतु उपयुक्तता को सुनिश्चित करने के लिए स्कॉडा ऑटो देश में एक इंजीनियरिंग केंद्र स्थापित करेगा। भविष्य में भारत में स्थानीय रूप से डिजाइन किए गए एवं तैयार किए गए सभी मॉडल फॉक्सवैगन समूह के एमक्यूबी प्लेटफॉर्म पर आधारित होंगे, जो वर्ष 2020 में लागू होने वाले भारत की सख्त कानूनी आवश्यकताओं को पहले से ही पूरा करता है।

मायर ने कहा, “भारत दुनिया भर में मोटर वाहन का तीसरा सबसे बड़ा बाजार बनने जा रहा है। अपनी ’इंडिया 2.0’ परियोजना के साथ, अब हम चिरस्थायी विकास के लिए उपयुक्त परिस्थितियों का निर्माण कर रहे हैं। हमारा उद्देश्य महत्वाकांक्षी है, लेकिन प्राप्त करने योग्य है : फॉक्सवैगन ब्रांड के साथ मिलकर हम बाजार और सेगमेंट के विकास के आधार पर लंबी अवधि में बाजार में पांच प्रतिशत तक की हिस्सेदारी की दिशा में प्रयासरत हैं।“

नई परियोजना पर प्रकाश डालते हुए बोपाराय ने कहा, “इंडिया 2.0 परियोजना के साथ स्कॉडा ऑटो इंडिया और फॉक्सवैगन समूह भारतीय कार बाजार की गतिशीलता का बेहतर ढंग से सामना करने की स्थिति में हैं। भारत में हम ऐसी कीमतों पर विश्व स्तरीय उत्पादों की पेशकश करेंगे, जो मोटर वाहन उद्योग जगत में एक बड़े बदलाव को दर्शाएगा। हम स्थानीयकृत एमक्यूबी ए0 प्लेटफॉर्म पर नए उत्पादों का निर्माण करेंगे, जो वर्ष 2020 में भारत में लागू होने वाले उत्सर्जन एवं सुरक्षा संबंधी कठोर मानकों को पहले ही पूरा करते हैं।“

प्रारंभ में स्कॉडा ऑटो भारत पर विशेष ध्यान देते हुए एमक्यूबी ए0 प्लेटफॉर्म प्लेटफॉर्म विकसित करेगा। दूसरे चरण में स्कॉडा भारत में निर्मित वाहनों की निर्यात की संभावनाओं का आकलन करेगा। स्कॉडा और फॉक्सवैगन इस प्लेटफॉर्म के आधार पर कई उत्पादों का विकास करेंगे। वर्ष 2020 में एक मध्य.आकार के एसयूवी के साथ यह मॉडल अभियान शुरू हो जाएगा।

वर्तमान में भारतीय उपमहाद्वीप में स्कॉडा ऑटो इंडिया प्राइवेट लिमिटेड चार मॉडलों की पेशकश करता है : ऑक्टाविया, सुपर्ब, रैपिड और हाल ही में शामिल कोडीक्यू, जिसे अक्टूबर 2017 में लॉन्च किया गया था। रैपिड का निर्माण पुणे संयंत्र में किया जाता है, जबकि ऑक्टाविया, सुपर्ब और कोडीक्यू मॉडल का निर्माण औरंगाबाद संयंत्र में किया जाता है, जहां कंपनी का मुख्यालय स्थित है। भारत में स्कॉडा वाहनों को 70 डीलरशिप के जरिये बेचा जाता है और ग्राहकों के लिए 70 सर्विस सेंटर उपलब्ध हैं।

loading...
Loading...

Related Articles