Main Sliderराष्ट्रीय

किसानों के साथ मजाक, गन्ने का MSP 7 पैसे प्रति किलो बढ़ाया…

नई दिल्ली। फसलों के न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) में वृद्धि के बाद सरकार ने अब किसानों के साथ बड़ा मजाक किया है। केंद्रीय मंत्रिमंडल ने आज की बैठक में गन्ना किसानों का उचित एवं लाभकारी मूल्य 7 पैसे प्रति किलो बढ़ाया है। हालांकि क्यास लगाए जा रहे थे कि गन्ने का उचित एवं लाभकारी मूल्य 20 रुपए बढ़ाकर 275 रुपए प्रति क्विंटल तय किया जा सकता है।

बता दें कि सरकार ने हाल ही में धान सहित खरीफ फसलों के न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) में भारी वृद्धि करने की घोषणा की। चीनी सत्र 2017-18 के लिए यह न्यूनतम मूल्य 255 रुपए प्रति क्विंटल है। वर्तमान में, एफआरपी मूल्य चीनी प्राप्ति की 9.5 फीसदी की बुनियादी प्राप्ति दर (रिकवरी रेट) से संबद्ध है। उत्तर प्रदेश जैसे राज्य केंद्र द्वारा गन्ने का राज्य परामर्श मूल्य भी घोषित किया जाता है जो केंद्र द्वारा तय भाव से ऊपर रहता है।

चीनी उद्योग के प्रमुख संगठन भारतीय चीनी मिल संघ (इस्मा) के अनुसार, अक्टूबर में शुरु होने वाले अगले विपणन वर्ष में भारत का चीनी उत्पादन 10 प्रतिशत बढ़कर 3.55 करोड़ टन के नए रिकॉर्ड को छू जाने का अनुमान है। जिस अनुमान की वजह सामान्य बारिश रहने की वजह से गन्ने के उत्पादन बढ़ने की संभावना है। ब्राजील के बाद दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा चीनी उत्पादक देश, भारत में चीनी उत्पादन विपणन वर्ष 2017-18 (अक्टूबर-सितंबर) में भी रिकॉर्ड तीन करोड़ 22.5 लाख टन होने का अनुमान है।

loading...
Loading...

Related Articles