Main Sliderराष्ट्रीय

यूपी, उत्तराखंड, बिहार समेत 16 राज्यों में मूसलाधार बारिश का अलर्ट जारी


नई दिल्ली। राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (एनडीएमए) ने शनिवार को कहा कि केरल के साथ ही उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, बिहार और पश्चिम बंगाल समेत 16 राज्यों में अगले दो दिनों में भारी से बहुत भारी बारिश होने के आसार है। मछुआरों को मध्य अरब सागर में नहीं जाने की सलाह दी गई है। एनडीएमए ने एक बयान में कहा कि बंगाल की खाड़ी के आसपास के इलाकों में भी भारी बारिश के आसार है।

भारतीय मौसम विभाग के एक बुलेटिन के हवाले से एनडीएमए ने बताया कि उत्तराखंड के दूरदराज के क्षेत्रों में रविवार और सोमवार को भारी बारिश होने की चेतावनी दी गई है। इसमें कहा गया है कि पश्चिम मध्य अरब सागर में समुद्रीय स्थितियां खराब से बेहद खराब होने के आसार हैं। मछुआरों को इस क्षेत्र में नहीं जाने की सलाह दी गई है। उत्तराखंड, उप हिमालयी पश्चिम बंगाल, सिक्किम, हिमाचल प्रदेश, उत्तर प्रदेश, छत्तीसगढ़, बिहार, झारखंड, ओडिशा, अरूणाचल प्रदेश, असम, मेघालय, तटीय आंध्र प्रदेश, तटीय कर्नाटक, तमिलनाडु और केरल के दूरदराज के क्षेत्रों में भारी से बहुत भारी बारिश होने का अनुमान है।

बारिश से हादसों में अब तक 718 मौतें
इस बार मानसून के दौरान अब तक सात राज्यों में बाढ़ और बारिश से संबंधित घटनाओं में 718 लोगों की मौत हो चुकी है। गृह मंत्रालय के राष्ट्रीय आपातकालीन प्रतिक्रिया केंद्र (एनईआरसी) के अनुसार, उत्तर प्रदेश में 171 लोगों, पश्चिम बंगाल में 170 लोगों, केरल में 178 और महाराष्ट्र में 139 लोगों की मौत हो चुकी हैं। इसके अलावा गुजरात में 52 लोगों, असम में 44 और नगालैंड में आठ लोगों की मौत हुई है। राज्यों में बारिश से संबंधित घटनाओं में कुल 26 लोग लापता भी हुए है, जिनमें से केरल में 21 लोग और पश्चिम बंगाल में पांच लोग लापता हुए। जबकि 244 अन्य लोग घायल हुए हैं।

यूपी में नदियां खतरे के निशान पर, गोंडा में बांध बहा
केंद्रीय जल आयोग की रिपोर्ट के मुताबिक प्रदेश में घाघरा, शारदा और सई समेत विभिन्न नदियां जगह-जगह उफान पर हैं। गोंडा के बच्ची माझा गांव के निकट भिखारीपुर सकरौर बंधा शुक्रवार देर रात सरयू नदी में समा गया। बंधा टूटने से करीब सवा सौ गांवों पर बाढ़ का खतरा बढ़ गया है। शनिवार देर शाम तक लगभग तीन दर्जन गांवों में पानी घुस गया है।

बंधा टूटने के बाद दो दर्जन गांव सरयू के पानी से लबालब हो गए हैं। वहीं घाघरा एल्गिनब्रिज (बाराबंकी), अयोध्या तथा तुर्तीपार (बलिया) में खतरे के निशान से ऊपर बह रही हैं। शारदा नदी का जलस्तर पलियाकलां में लाल निशान के पार बना हुआ है। गंगा नदी का जलस्तर नरौरा (बुलंदशहर), फतेहगढ़, गुमटिया (कन्नौज), कानपुर और अंकिनघाट (कानपुर देहात) में रामगंगा नदी का जलस्तर डाबरी (शाहजहांपुर) में, यमुना का जलस्तर प्रयागघाट (मथुरा) में, राप्ती नदी का जलस्तर बलरामपुर और बांसी (सिद्धार्थनगर), सई नदी का जलस्तर रायबरेली में, शारदा नदी का जलस्तर शारदानगर में खतरे के निशान के पास पहुंच गया है।

loading...
Loading...

Related Articles