थानों पर खड़े चार पहिया वाहनों को मिली स्थायी जगह