Main

Today's Paper

Today's Paper

बसों की लापरवाही पड़ सकती है लोगों पे भारी

बस

बेगूसराय। राज्य सरकार व जिला प्रशासन ने अनलॉक के दौरान अगले एक सप्ताह तक भले की सार्वजनिक परिवहन के साधनों में कोरोना से बचाव को लेकर प्रोटोकॉल पालन कराने के लिए क्षमता से आधी सवारी बैठाने को आदेश जारी किया हो लेकिन धरातल पर ठीक इसके विपरीत नजारा दिख रहा है। बेगूसराय बस पड़ाव में उक्त प्रोटोकॉल को पालन कराने को लेकर ना तो पुलिस व दंडाधिकारी की मौजूदगी दिख रही है और ना ही बस के कर्मचारियों की सजगता। लंबी दूरी से लेकर कम दूरी की बसों में ना तो नियमित स्वच्छता के लिए सैनिटाइजेशन कराया जा रहा है और ना ही यात्रियों के बीच शारीरिक दूरी का अनुपालन।


बेगूसराय बस पड़ाव में भीड-भाड ज्यादा नहीं है, लेकिन एक के बाद विभिन्न जगहों के लिए बस लगातार खुल रही है। विभिन्न कंपनी के बुकिग काउंटर पर कोई मास्क, तो कोई बिना मास्क के यात्रियों से पूछताछ कर टिकट देने व बस में बैठाने में मशगूल हैं। एक कंपनी के बुकिग काउंटर पर कर्मचारी अपनी दिनचर्या में लगे हैं।

कंपनी के संचालक मुक्तिनाथ सिंह बताते हैं कि फिलहाल दो दिनों से ही बसों का परिचालन शुरू किया है। अभी दिल्ली छोड़ लंबी दूरी की बसों में यात्रियों को टोटा हैं। यहां से पूर्णिया, सिल्लीगुड़ी, भागलपुर, रांची, पटना, मुजफ्फरपुर समेत अन्य जगहों के लिए नियमित बस सेवा दी जाती है। प्रोटोकॉल के पालन के संबंध में बताते हैं कि बस खुलने के बाद प्रशासन द्वारा जगह-जगह जांच की जा रही है। मौजूदा संक्रमण काल में अबतक करीब डेढ़ लाख रुपया जुर्माना भर चुके हैं।

बस पड़ाव के मुख्य द्वारा के पास से हसनपुर बिथान जाने वाली बस खुल रही है। बस के कर्मचारी और चालक बिना मास्क लगाए यात्रियों को पुकार रहे हैं। बस के अंदर घुसने पर पीछे की आधी सीट खाली दिखी फिर भी यात्रियों को शारीरिक दूरी का अनुपालन कर नहीं बैठाया जा रहा है। चालक से पूछने पर वह उक्त जिम्मेदारी का ठीकरा कंडक्टर के सिर थोप रहा है वहीं कंडक्टर भी सवाल से कन्नी काटने लगता है। आस-पास गृहरक्षकों की मौजूदगी के बाद भी किसी बस या छोटी वाहन के कर्मचारियों को मास्क लगाने के लिए प्रेरित नहीं किया जा रहा है। यहीं हाल स्टेशन चौक के पूर्वी द्वार के समीप खगड़िया बिथान जाने वाली बसों में दिख रहा है।

Share this story