Main

Today's Paper

Today's Paper

मिट रहा पोखर-तालाब का अस्तित्व

पोखर-तालाब

खगड़िया। बेलदौर भारतीय संस्कृति में पोखर, तालाब का विशेष महत्व है। लेकिन, पदाधिकारियों एवं जनप्रतिनिधियों के उदासीन रवैये के कारण पोखर, तालाब अपने अस्तित्व की लड़ाई लड़ रहा है। बेलदौर प्रखंड सह अंचल कार्यालय परिसर स्थित लगभग तीन एकड़ में फैले तालाब को आज किसी मसीहा की तलाश है। 


इस सरकारी तालाब के अस्तित्व पर खतरा मंडरा रहा है। आलम यह है कि तालाब की साफ-सफाई, रखरखाव को लेकर कई बार योजना संचालित हुई, परंतु स्थिति जस का तस है। तालाब में गाद, जलकुंभी भरा पड़ा है। प्रखंड मुख्यालय स्थित यह तालाब प्रखंड क्षेत्र का सबसे बड़ा तालाब है।दूसरी ओर बेलदौर आदर्श टोला स्थित पोखर भी अपने अस्तित्व को बचाने की जंग लड़ रहा है। यह तालाब लगभग दो एकड़ में फैला हुआ है। 


तालाब का धीरे-धीरे अतिक्रमण हो रहा है। इसी तरह गौंगी तालाब, पीरनगरा तालाब को भी उद्धारक की तलाश है। स्थानीय लोगों ने इस ओर अधिकारियों का ध्यान आकृष्ट कराया है। अभी कोरोना काल है। सारा ध्यान इससे निपटने में है। इसके बाद सभी तालाब-पोखर को अतिक्रमण मुक्त कराया जाएगा।
 

Share this story