Main

Today's Paper

Today's Paper

जल-जीवन-हरियाली कार्यक्रम का आयोजन

खगड़िया। जल-जीवन-हरियाली अभियान अन्तर्गत माह के जल-जीवन हरियाली दिवस का आयोजन जिला मुख्यालय, अनुमंडल एवं प्रखंड स्तर पर किया जाता है। अप्रैल माह के जल जीवन हरियाली अभियान अन्तर्गत अधिषेष नदी जल क्षेत्र से जल की कमी वाले क्षेत्रों में जल ले जाना विषय पर राज्य स्तरीय कार्यक्रम जल संसाधन विभाग द्वारा वर्चुअल मोड में मंत्री जल संसाधन विभाग, बिहार संजय कुमार झा की अध्यक्षता में किया गया। उक्त अवसर पर एनआईसी, खगड़िया में विडियो काॅन्फ्रेसिंग के माध्यम से आयोजित कार्यक्रम में जिला मुख्यालय स्तर पर अपर समाहत्र्ता शत्रुन्जय मिश्रा, उप विकास आयुक्त अभिलाषा शर्मा, निदेशक, ग्रामीण विकास अभिकरण सहित अन्य संबंधित पदाधिकारी शामिल हुए।

उक्त कार्यक्रम में माननीय मंत्री महोदय ने सिंचाई विभाग द्वारा प्रारंभ किये गये गंगा उद्भव परियोजना की जानकारी दी, जिसका उदेष्य अधिषेष नदी जल क्षेत्र से जल की कमी वाले क्षेत्रों में जल ले जाना है और इसके माध्यम से दक्षिण बिहार के पेय जल की कमी वाली शहरों गया, राजगीर, नवादा आदि को पेय जल की उपलब्धता सुनिष्चित कराना है। मंत्री ने बताया कि उक्त परियोजन 2050 तक के संभावित जनसंख्या को आकलित कर तैयार की गई है। अतएव यह एक दीर्घकालीन परियोजना है और इससे आने वाली पीढ़ियों को भी फायदा होगा। जल जीवन हरियाली माननीय मुख्यमंत्री, बिहार श्री नीतिष कुमार की अद्वितीय संकल्पना है, जिसको लेकर उन्हें संयुक्त राष्ट्र संघ में जलवायु नेतृत्वकत्र्ता के रूप में आमंत्रित किया गया था।

जल-जीवन-हरियाली योजना का उदेष्य मानव जीवन एवं प्रकृति के बीच संतुलन को कायम रखने के दृष्टि से जंहा एक ओर हरित क्षेत्रों का वृक्षारोपन के माध्यम से विस्तार करना है, वहीं दूसरी ओर जलाषयों, तालाबों, कॅुओं एवं चेकडैम के माध्यम से जल संचयन पर बल देना है। जल जीवन हरियाली के माध्यम से भू-गर्भ जल पर निर्भरता कम करते हुए सतही जल पर निर्भरता बढ़ाना है एवं गंगा उद्भव परियोजना के माध्यम से मानसून काल में नदियों कें अधिषेष जल को कमी वाले क्षेत्रों में ले जाना है। माननीय मंत्री महोदय ने यह भी बताया कि बिहार में जल प्रबंधन एंव गंगा की अविरलता को बनाये रखना एक बड़ा मुद्दा है। फरक्का बैराज की वजह से गंगा नदी में गाद जमा होने के चलते इसके किनारे अवस्थित शहरों पर बाढ़ का खतरा पैदा हो गया है।

इस मुददे को बिहार सरकार ने केन्द्रीय जल आयोग की बैठकों में प्रमुखता से उठाया है। जल जीवन हरियाली दिवस के अवसर पर समाहरणालय परिसर में पुलिस अधीक्ष अमितेष कुमार, अपर समाहत्र्ता श्री शत्रुन्जय मिश्रा एवं उप विकास आयुक्त श्रीमती अभिलाषा शर्मा द्वारा वृक्षारोपन भी किया गया।    

Share this story