Main

Today's Paper

Today's Paper

इंडो भारत नेपाल की सीमा पर आवाजाही करने वालों को पहचान पत्र रखना आवश्यक

SSb

किशनगंज। इंडो भारत नेपाल की सीमा की सुरक्षा में तैनात एसएसबी 12 वीं बटालियन पलसा कंपनी मुख्यालय के इंस्पेक्टर जीडी विकाश चंद्र विश्वास ने नेपाल आर्म फोर्स के जवानों के साथ बैठक की। बैठक में इंस्पेक्टर ने कहा कि नेपाल और भारत के बीच सदियों से रोटी बेटी का संबंध रहा है, दोनों देशों के नागरिक खुली सीमा से होकर दोनों ओर आ जा सकते हैं। सुरक्षा की ²ष्टिकोण से दोनों देशों के नागरिकों को अपने साथ पहचान पत्र रखना आवश्यक होगा। यह बातें भारत नेपाल सीमा के बाडर पीलर 136/4 के समीप एसएसबी जवानों और पड़ोसी देश नेपाल के एपीएफ जवानों के बीच समन्वय बैठक में रखी गयी।


रविवार को सिघीमारी पंचायत के चट्टानटोला गांव के समीप नो मेंस लेंड पर भारत नेपाल सीमा सुरक्षा में तैनात एसएसबी 12 वीं बटालियन की बी कंपनी पलसा बीओपी के जवानों ने समन्वय स्थापित कर एपीएफ जवानों के साथ एक बैठक का आयोजन किया। बैठक में दोनों देशों के जवानों ने राष्ट्रविरोधी ताकतों, तस्करी आदि को अंकुश लगाने को लेकर एक दूसरे को सहयोग करने की सहमति जाहिर की। 

बैठक की अध्यक्षता कर रहे पलसा बीओपी के कंपनी कमांडर ने कहा कि बैठक में मुख्य रूप से नेपाल की तरफ से आने वाले नेपाली नागरिकों को भारत में आने के लिए पहचान पत्र आवश्यक होगा। इसे सभी लोग आवश्यक समझें। साथ ही सीमा पर किसी भी प्रकार का अतिक्रमण गैरकानूनी है जो किसी भी सूरत पर बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। इसके अलावे आपसी तालमेल से तस्करी रोकने पर लगाम लगाने के अलावे लोगों को कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए अनिवार्य रूप से मास्क पहनने के साथ कोविड प्रोटोकाल मानकों को लेकर लोगों में जागरूकता फैलाने पर विचार विमर्श किया गया। 


बैठक में हेड कांसटेबल रघुवीर कुमार, विकास शर्मा व नेपाल एपीएफ सालमारा बीओपी के एसआई पुण्या बीमालि, हेड कांस्टेबल सी अधिकारी, सिपाही नवराज खतरी एवं नेपाल पुलिस के लक्ष्मण शर्मा आदि जावन बैठक में मौजूद थे।

Share this story