Main

Today's Paper

Today's Paper

स्पेशल ट्रेन से पटना पहुंचे 17 यात्री कोरोना पॉजिटिव

पटना। मुंबई से बिहार की राजधानी पटना आने वाली लोकमान्य तिलक टर्मिनल एक्सप्रेस ट्रेन देर रात के करीब रात 1:00 बजे पटना जंक्शन पहुंची। इस ट्रेन के आने के पहले जिला प्रशासन और रेलवे की ओर से यात्रियों के कोरोना जांच की खास तैयारी की गई थी। लिहाजा सभी यात्रियों को ट्रेन से उतरते ही लाइन में खड़ा कर दिया गया। इसके बाद एक-एक कर सबकी कोरोना जांच की गई। इनमें से 17 यात्री कोरोना पॉजिटिव पाए गए। पटना जिला प्रसाशन के अधिकारी विनायक मिश्रा ने कहा कि महाराष्ट्र में कोरोना का कहर सबसे ज्यादा है। इसलिए मुम्बई से आने वाली ट्रेनों के सभी यात्रियों की कोरोना जांच एंटीजन किट से कराई गई।

मुम्बई से आने वाली ट्रेन के लिए पटना रेलवे स्टेशन पर खास इंतजाम किया गया था। प्लेटफार्म नंबर एक से निकलने वाले सभी रास्‍तों को बंद कर दिया गया था। सिर्फ दो मेन गेट को ही खोला गया था, जिससे एक-एक कर यात्री बाहर आ रहे थे। जहां स्वास्थ्य विभाग की टीम बारी-बारी से उनका जांच कर रही थी. कोरोना जांच के लिए जिला प्रशासन के द्वारा एक साथ कई काउंटर बनाए गए थे। जांच में नेगेटिव आए पैसेंजर को ही घर जाने की अनुमति दी गई, लेकिन जो पॉजिटिव पाए जा रहे थे उन्हें अलग एक कोने में बिठाया जा रहा था।


अफसरों ने बताया कि मुम्बई से लगभग 655 लोग ट्रेन से पटना पहुचे थे। सभी यात्रियों की जांच की गई, जिसमें 17 यात्री कोरोना पॉजिटिव पाए गए। जो भी यात्री कोरोना पॉजिटिव पाए जा रहे थे, उन्हें जिला प्रशासन द्वारा एक और बिठाया जा रहा था। जांच पूरी होने के बाद पॉजिटिव पाए गए सभी यात्रियों को होटल पाटलिपुत्र अशोक में बने आइसोलेशन सेंटर भेज दिया गया। पटना रेलवे स्टेशन पर मुम्बई से आए लोगो में ज्यादातर वे थे जो मुंबई में लॉकडाउन लगने कारण रोजगार छिन जाने के बाद बिहार अपने घर पहुंचे थे। ज्यादातर लोगों का कहना था कि कोरोना के बढ़ते प्रकोप के कारण वह अपने घर वापस लौट रहे हैं. महाराष्ट्र में कोरोना बढ़ने के कारण उन्हें रोजगार भी नहीं मिल रहा था। महाराष्ट्र से आए मोहम्‍मद आफताब, सूरज कुमार और बीएन शाह ने कहा कि वहां लॉकडाउन लगने के कारण काम-धंधा बंद हो गया था। इसलिए बेरोजगारी में मुम्बई में रहने से अच्छा उन्होंने बिहार अपने घर आना उचित समझा।

Share this story