Main

Today's Paper

Today's Paper

बच्चे की तलाश में छापामारी के दौरान किशनगंज की तीन महिला पुलिसकर्मियों को बनाया बंधक, मारपीट

पूर्णिया। किशनगंज से एक बच्चे की तलाश में पूर्णिया पहुंची महिला पुलिस टीम पर लोगों ने हमला बोल दिया। पुलिस की टीम माधोपारा स्थित एक घर में छापेमारी करने गई थी। इस दौरान तीन महिला पुलिसकर्मियों को आरोपित के घरवालों ने बंधक बना लिया। उनके साथ मारपीट की गई। लोगों के इस दुस्साहस की खबर मिलने के बाद पूर्णिया के तीन थानों के प्रभारियों के साथ बड़ी संख्या में पुलिस माधोपारा पहुंची और महिला पुलिसकर्मियों को मुक्त कराया।

पुलिस ने मु. सैदुल और महिला सहित तीन लोगों को गिरफ्तार किया है। अन्य आरोपितों की तलाश में दबिश दी जा रही है। सहायक खजाची थानाध्यक्ष संजय कुमार सिंह ने बताया कि किशनगंज जिले के कोचाधामन की महिला ने महिला थाने में अपने पति के खिलाफ केस दर्ज कराया था। आरोप लगाया कि पति ने उसके साथ मारपीट कर बच्चे को छीन लिया। उसे पूर्णिया ले आया। 

उसी बच्चे के मुक्त कराने के लिए किशनगंज से महिला थाना अध्यक्ष पुष्प लता के नेतृत्व में पुलिस टीम आई थी। माधोपारा में घर सर्च करने के बाद बच्चा नहीं मिला तो पुलिस के साथ घरवाले मारपीट करने लगे। एक महिला पुलिसकर्मी से हथियार तक छीन लिया गया। पुलिस कíमयों को कमरे के अंदर बंद कर दिया गया। बाद में पहुंची पुलिस टीम ने पुलिस पदाधिकारियों को वहा से मुक्त कराया। पुलिस ने मोहम्मद सैदुल को गिरफ्तार कर लिया है। 

किशनगंज पुलिस टीम पर हमले की सूचना के बाद सदर पुलिस उपाधीक्षक आनंद पाडे के नेतृत्व में सहायक खजाची थानाध्यक्ष संजय कुमार सिंह, केहाट थाना अध्यक्ष व प्रशिक्षु डीएसपी आनंद मोहन गुप्ता एवं मरंगा थानाध्यक्ष मिथिलेश कुमार दल बल के साथ माधोपारा पहुंचे। पुलिस ने वहां डेरा डाल आरोपितों की धड़पकड़ शुरू कर दी।

दरअसल, किशनगंज से आई पुलिस टीम माधोपारा के मु. सैदुल के घर छापामारी के लिए आई थी। पुलिस बच्चे की तलाश कर रही थी इसी दौरान पुलिस पदाधिकारी के साथ धक्का-मुक्की और मारपीट शुरू कर दी गई। इस दौरान तीनों महिला पुलिसकर्मी घायल हो गई। यहां पुलिस के साथ न केवल मारपीट की गई बल्कि सभी को बंधक भी बना लिया गया। पूर्णिया पुलिस ने बंधक महिला पुलिसकर्मियों को छुड़ाया। पुलिस उसी घर के दो पुरुष और एक महिला को गिरफ्तार कर सहायक खजाची थाना ले आई है। उनसे पूछताछ की जा रही है।

Share this story