Main

Today's Paper

Today's Paper

फूटा गुस्सा: मारपीट में घायल युवक का इलाज के दौरान मौत, आक्रोशित लोगो ने की घण्टो सड़क जाम

सड़क जाम

दावथ, रोहतास। नगर  पंचायत कोआथ में विगत एक सप्ताह पुर्व हुई मारपीट में नबाबगंज के एक युवक की मौत गुरुवार की शाम इलाज के दौरान हो गई। जिससे गुस्साए परिजनों व ग्रामीणों ने शव को बभनौल अड्डा एनएच 120 पर रख कर सुबह सात बजे से ही क्षेत्र के कई जगहों पर सड़क जाम कर दिया। जाम के दौरान थानाध्यक्ष पर अविलंब कारवाई करने,परिजनों समेत अन्य लोगों की रिहाई व सभी केस वापस लेने तथा मृतक के पत्नी को सरकारी नौकरी की मांग कर रहे थे। जामकर्ताओं ने बताया कि थाना क्षेत्र के नगर पंचायत कोआथ में विगत दो जून को बाइक की मामूली टक्कर में दो पक्षों के बीच विवाद हो गया था।

बात बढ़ कर मामला मारपीट तक पहुंच गई। जिसमें दोनों पक्ष द्वारा जम कर ईट पत्थर, डंडे से मार पीट किया गया था। जिसमें आधा दर्जन लोग बुरी तरह से जख्मी हो गए थे। वहीं गोली बारी के बाद पुलिस ने दो खोखा भी बरामद किया था। उसी दौरान नबाबगंज निवासी योगेन्द्र सिंह का 24 वर्षीय पुत्र राजेश कुमार काफी जख्मी हो गया था। ज़ख्मी के नवविवाहिता पत्नी सरोजा देवी द्वारा प्राथमिकी भी दर्ज कराई गई थी। ज़ख्मी के इलाज के दौरान गुरुवार की मौत हो गई है। मौत की जानकारी मिलते ही क्षेत्र में रोष का माहौल बन गया। शुक्रवार की सुबह सात बजे से ही बभनौल अड्डा एनएच 120 पर शव रख कर पीरो कोआथ पथ के चकचातर, कोआथ बंगला, देवगना, मलियाबाग चौक को जाम कर दिया। जिससे आवागमन पुरी तरह से ठप हो गया।

स्वजनों व जामकर्ताओं ने  बताया कि पुलिस प्रशासन द्वारा जम कर मनमानी किया जा रहा है। घटना में केवल एकतरफा कार्रवाई किया जा रहा है।थाना प्रभारी के निलंबन की मांग सहित मृतक के दोषीयों को शिध्र गिरफ्तार करने मांग पर अड़े रहे।ततपश्चात एसडीओ विजयंत, डीएसपी राजकुमार तथा क्षेत्रीय विधायक विजय कुमार मंडल के पहल पर आक्रोशित लोगों ने सड़क को अपने चंगुल से मुक्त किया। वहीं एसपी आशीष भारती ने बताया कि पुलिस किसी भी दोषीयों को नहीं बख्शेगी। दोनों पक्ष समेत संबंधित अधिकारियों पर जांच कर विधीसमत कारवाई किया जाएगा।

वहीं अनाधिकृत रूप से आवागमन ठंप करने वाले लोगों पर भी कार्रवाई किया जाएगा। स्वजनों के समस्याओं का भी निदान किया जाएगा। पुलिस अपना कार्य सही ठंग से कर रही है। दोषियों को पहचान कर कार्रवाई किया जा रहा है वहीं निर्दोषों को जांच कर केस से अलग किया जाएगा।सूत्रों पर विश्वास करे तो पुलिस ने इस मामले तीन अलग अलग प्राथमिकी दर्ज की है।जिसमे दो प्राथमिकी 73/21व 74/21 एक ही दिन जबकि मृतक पक्ष का 76/21दूसरा दिन प्राथमिकी दर्ज की गई है।परिजनों का कहना है कि आवेदन घटना के दिन ही दिया गया था।

Share this story