Saturday, November 27, 2021 at 12:57 AM

ब्रेकिंग न्यूज :मार्च तक महाराष्ट्र में बन जाएगी बीजेपी की सरकार

नई दिल्ली. केंद्रीय मंत्री और बीजेपी नेता नारायण राणे ने महाराष्ट्र की सियासत को लेकर बड़ा बयान दिया है. उन्होंने कहा है कि अगले साल मार्च तक महाराष्ट्र में बीजेपी की सरकार बन जाएगी. राणे ने राजस्थान के जयपुर में कहा कि महाराष्ट्र में बीजेपी की सरकार बनने के बाद वहां बदलाव देखने को मिलेगा.

जानकारी के अनुसार केंद्रीय लघु एवं मध्यम उद्योग मंत्री नारायण राणे जयपुर दौरे पर पहुंचे थे. राणे ने महाराष्ट्र के माहौल को लेकर कहा कि ‘महाराष्ट्र में भाजपा सरकार नहीं है, इसलिए वहां ऐसा माहौल बना हुआ है. लेकिन मार्च तक वहां भाजपा की सरकार बन जाएगी. इसके बाद अपेक्षित बदलाव देखने को मिलेगा.’ इसके आगे राणे ने कहा कि ‘सरकार गिराने और बनाने की बात सीक्रेट होती है. ये मेरे अंदर की बात है. उसको बाहर नहीं निकालना चाहता.’ इसके बाद उन्होंने कहा कि उनके प्रदेशाध्यक्ष ने ऐसा बयान दिया है, जोकि सही होना चाहिए. राणे ने झालाना स्थित खादी इंडिया का अवलोकन करने के बाद ये बयान दिया है.

महाराष्ट्र के ट्रांसपोर्ट मिनिस्टर अनिल परब ने केंद्रीय मंत्री नारायण राणे के उस दावे को खारिज किया है जिसमें उन्होंने कहा था कि मार्च में महाराष्ट्र में बीजेपी की सरकार बनेगी. अनिल परब ने दावा किया कि महाविकास आघाडी सरकार अपना कार्यकाल पूरा करेगी. अनिल परब ने कहा कि नारायण राणे के बोलने से सरकार नहीं चलती. सरकार चलती है संख्या बल से. महाविकास आघाडी सरकार के पास पूर्ण बहुमत है. महाविकास आघाडी सरकार अपना पांच साल का कार्यकाल पूरा करेगी.
बता दें, गुरुवार को महाराष्ट्र के बीजेपी अध्यक्ष चंद्रकांत पाटिल ने दिल्ली में केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह से मुलाकात की है. कयास लगाए जा रहे हैं कि इस बैठक में महाराष्ट्र को लेकर बातचीत हुई. इसके अलावा दिल्ली में महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री और बीजेपी नेता बी एल संतोष के बीच भी बैठक हुई है. इस सब घटना के बीच केंद्रीय मंत्री का सरकार बदलने का विस्फोटक बयान आने के बाद सियासत और गर्म हो गई है.

उधर एनसीपी प्रमुख शरद पवार अपने सभी कार्यक्रम रद्द कर आज दोपहर में दिल्ली पहुंच रहे हैं. शरद पवार, प्रफुल्ल पटेल के साथ दिल्ली के लिए मुंबई से रवाना भी हो गए हैं. माना जा रहा है कि बीजेपी एनसीपी को अपने पाले में लेने की कोशिश कर सकती है. हांलाकि दोनों पार्टियों की तरफ से अब तक इसके बारे में कुछ नहीं कहा गया है.