भाजपा ने रायबरेली सदर से आदिति सिंह तो हरचंदपुर सीट से राकेश प्रताप को बनाया उम्मीदवार

रायबरेली:–कांग्रेस से बगावत कर भाजपा में शामिल हुए दोनों विधायक अब भाजपा के टिकट पर भाग्य आजमाएंगे।शुक्रवार देर शाम पार्टी ने इसकी घोषणा करते हुए रायबरेली से अदिति सिंह व हरचंदपुर से राकेश सिंह को उम्मीदवार बनाया है।हालांकि दोनों का टिकट पहले ही पक्का माना जा रहा था।रायबरेली में जहां अभी तक भाजपा का कमल नहीं खिल सका है,वहीं हरचंदपुर में केवल दो बार ही बीजेपी जीत पाई है।

कभी गांधी परिवार की नजदीकी रहीं अदिति सिंह की राजनीति में औपचारिक प्रवेश 2017 के विधानसभा चुनाव में हुई जिसमें उन्होंने कांग्रेस उम्मीदवार के रूप में करीब 90 हज़ार मतों से जीत हासिल की।34 वर्षीय अदिति सिंह 17 वीं विधानसभा के सबसे कम उम्र के सदस्यों में थी।रायबरेली के बाहुबली नेता के रूप में पहचान बनाने वाले अखिलेश सिंह की वह बड़ी बेटी हैं और उनकी शादी भी पंजाब के बड़े राजनीतिक घराने में हुई है।अदिति के पति अंगद सिंह कांग्रेस के नेता हैं और पंजाब के नवांशहर से निवर्तमान विधायक भी हैं।उनकी मां आमवं की ब्लॉक प्रमुख हैं व छोटी बहन समाजसेवा के क्षेत्र में सक्रिय हैं।अपने बेबाक बयानों से मीडिया की सुर्खियों में रहने वाली अदिति सिंह के ऊपर रायबरेली में पहली बार कमल खिलाने की बड़ी जिम्मेदारी होगी।

मोदी लहर में भी हरचंदपुर से विधायक बने राकेश सिंह इस बार भाजपा से उम्मीदवार हैं।2017 में उन्होंने भाजपा के उम्मीदवार को क़रीब 3500 मतों से हराया था।हालांकि कांग्रेस से उनका जल्द ही मोहभंग हो गया और केवल तकनीकी रूप से ही पार्टी से जुड़े रहे।41 वर्षीय राकेश सिंह   बीती 31 दिसम्बर को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के सामने विधिवत भाजपा में शामिल हो गए।उनके बड़े भाई एमएलसी दिनेश सिंह व पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष अवधेश सिंह 2018 में ही पार्टी में शामिल हो चुके थे।रायबरेली में क़द्दावर राजनीतिक परिवार से आने वाले राकेश सिंह के लिए हरचंदपुर में लंबे समय से सूखे को खत्म करना सबसे बड़ी चुनौती होगी ।

See also  यूपी: इस दिन से खुलेंगे कॉलेज- विश्वविद्यलय