Saturday, November 27, 2021 at 5:41 AM
tm

केवी में सांप्रदायिक सद्भाव सप्ताह समारोह का आयोजन

रुड़की (देशराज)। केंद्रीय विद्यालय क्रमांक-एक रुड़की में सांप्रदायिक सद्भाव सप्ताह समारोह का आयोजन 19 से 25 नवम्बर 2021 में किया गया। आज इसके समापन के अवसर पर विद्यार्थियों को संबोधित करते हुए प्राचार्य वी के त्यागी ने कहा कि  सांप्रदायिक सौहार्द का मतलब शांति और सौहार्द के वातावरण में सभी समुदायों का सह-अस्तित्व है।सभी समुदायों को विकास के समान अवसर मिल रहे हैं और सभी एक-दूसरे की वृद्धि को साझा कर रहे हैं। सांप्रदायिक एकता भारत की एक महान प्रकृति है और भारत वह समुदाय है, जहां विभिन्न प्रकार के धर्म और उसमें विश्वास करने वाले लोग देश में एक साथ रह रहे हैं। भारत ने दुनिया में सांप्रदायिक एकता का एक महत्वपूर्ण उदाहरण स्थापित किया है। भारत दुनिया का एकमात्र ऐसा देश है जहां सभी धर्म और विश्वास के लोग लंबे समय से शांतिपूर्वक रह रहे हैं। विद्यार्थियों में सामाजिक सद्भाव के प्रति जागरूकता और प्रेम को बढाने के लिए केंद्रीय विद्यालय क्रमांक-एक रुड़की में सांप्रदायिक सद्भाव सप्ताह (19-25 नवम्बर) समारोह के तहत विभिन्न ऑनलाइन प्रतियोगिताएं जैसे–निबंध लेखन, नारा लेखन, चित्रकला, भाषण का आयोजन किया गया।इन प्रतियोगिताओं में विद्यार्थियों ने बहुत उत्साह के साथ प्रतिभाग किया। निबंध लेखन में जूनियर ग्रुप में दीक्षा (8ब ) प्रथम स्थान, श्रेया (6 ब ) द्वितीय स्थान पर तथा देवांशु (7 अ ) तृतीय स्थान पर रहे। निबंध लेखन में सीनियर ग्रुप में प्राची (9 स ) प्रथम स्थान, परीक्षित शर्मा (12 द ) द्वितीय स्थान पर तथा माहविश (12 द ) तृतीय स्थान पर रहे। भाषण प्रतियोगिता में जूनियर ग्रुप में कशिश शर्मा (8 ब) प्रथम स्थान पर, आयुष प्रसाद (6 ब ) द्वितीय स्थान पर तथा श्रेया उपाध्याय (6 ब ) तृतीय स्थान पर रहे। भाषण प्रतियोगिता में सीनिअर ग्रुप में राम कुमार शर्मा (11 अ ) प्रथम स्थान पर, प्रिया (11 स ) द्वितीय स्थान पर तथा शालिनी (11 ब ) तृतीय स्थान पर रहे।प्राथमिक विभाग से चित्रकला प्रतियोगिता में इशिका गुसाईं (1 अ ) प्रथम, स्थान पर, आराध्या शर्मा (3 अ ) द्वितीय स्थान पर तथा तन्वी (3 ब ) तृतीय स्थान पर रहे। प्राथमिक विभाग से निबंध लेखन प्रतियोगिता में ख़ुशी धस्माना (5 ब ) प्रथम स्थान पर, क्रिशिव वोहरा (2 ब ) द्वितीय स्थान पर तथा शैली वोहरा (1 अ ) तृतीय स्थान पर रहे। विजेता प्रतिभागियों को बधाई देते हुए उप प्राचार्या अंजू सिंह ने कहा कि सांप्रदायिक सद्भाव की कमी हमारे राष्ट्र के लिए खतरनाक है। यह बिल्कुल स्पष्ट है कि सांप्रदायिक सद्भाव के अभाव में देश में कोई सामाजिक, राजनीतिक और आर्थिक विकास नहीं हो सकता है।