Saturday, November 27, 2021 at 5:32 AM

काशी विश्वनाथ धाम की अभेद्य सुरक्षा में CISF दे रही सुरक्षा और चेकिंग के टिप्स

वाराणसी:प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी वाराणसी में अपने ड्रीम प्रोजेक्ट काशी विश्वनाथ धाम का दिसंबर में लोकार्पण करेंगे। इससे पहले अति संवेदनशील इस परिक्षेत्र की अभेद्य सुरक्षा व्यवस्था का खाका नए सिरे से खींच लिया गया है। पुलिसकर्मियों को नए सुरक्षा उपकरणों को सुचारु रूप से संचालित करने और प्रोफेशनल तरीके से चेकिंग करने में सक्षम बनाने के लिए बाबतपुर स्थित लाल बहादुर शास्त्री इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर तैनात CISF को जिम्मेदारी सौंपी गई है।

CISF के साथ 7 दिवसीय कैप्सूल पाठ्यक्रम के लिए 25-25 पुलिसकर्मियों के अलग-अलग बैच बनाए गए हैं। पहले बैच का प्रशिक्षण शुरू हो चुका है। पुलिसकर्मियों की दक्षता की जांच धाम क्षेत्र में स्थापित किए जा रहे उपकरणों और गैजेट्स के परीक्षण की शुरूआत के साथ की जाएगी। नई सुरक्षा योजना की जांच के बाद अनुमोदन के लिए उसे काशी विश्वनाथ-ज्ञानवापी सुरक्षा की स्थायी समिति को भेजा जाएगा।

 

काशी विश्वनाथ मंदिर-ज्ञानवापी के पुराने परिक्षेत्र से काशी विश्वनाथ धाम का क्षेत्रफल कई गुना बढ़ गया है। काशी विश्वनाथ धाम का क्षेत्रफल 5,27,730 वर्गफीट है। पुलिस कमिश्नर ए. सतीश गणेश ने बताया कि सुरक्षा व्यवस्था का खाका इस संबंध में गठित स्थायी समिति के दिशानिर्देशों के अनुरूप खींचा गया है। काशी विश्वनाथ मंदिर और ज्ञानवापी परिसर रेड जोन (आंतरिक घेरा) में रहेगा। नई सुरक्षा योजना में इसकी सीमा अपरिवर्तित रहेगी।

रेड जोन की सुरक्षा केंद्रीय अर्ध सैनिक बल के हाथ में रहेगी। इसके अलावा विश्वनाथ धाम क्षेत्र यलो जोन में और उसके बाहर का क्षेत्र ग्रीन जोन होगा। यलो जोन में तलाशी और भीड़ नियंत्रण की जिम्मेदारी पहले की ही तरह सिविल पुलिस के पास रहेगी।