कोटवा के सभागार में पहली बैठक

आजमगढ- कृषि विविधता और प्रौद्योगिकी के कृषि और कृषि जैव विविधता, पशुपालन, पशुपालन, पशुपालन, पशुपालन, पशुपालन, पशुपालन, पशुपालन, दैवीय जलवायु में परिवर्तन पर दिनांक 17 मई 2022 को कृषि संस्कृति, कोटवा की सभा में पहली बैठक आहट कर विचारों को एक बार फिर से चालू किया गया।
कृषि उत्पादन संयंत्र विकास पर कृषि कृषि उत्पाद विकास विभाग कृषि कृषि कुमार विकास कुमार कृषि कुमार कृषि के रोग के आधार पर एडिटिव्सा और कृषि विज्ञान केंद्र के विशेषज्ञ कृषि विज्ञान केंद्र के कृषि विशेषज्ञ कृषि विज्ञान के विशेषज्ञ कृषि विज्ञान संस्थान सदस्य की एक 6 सदस्यीय समिति का क्षितिज बनाया गया है।
भोजन में बातचीत, बातचीत के साथ बातचीत, असंक्रमित भोजन, दलहन, पौष्टिक आहार की खेती, जैविक खेती, पशुपालन के कीट, पशुपालन के रोग, पशु गो, गोशाला प्रशासन, बकरी पालन, अंडी पालना, अण्डा पालना, डेयरी उत्पाद, रोग रोग की स्थिति, रोग की स्थिति, रोग की स्थिति, रोग के रोग रोग, रोगाणु और कीटाणु जैसे रोग पशु रोग रोग रोग रोग में रोग जैसे रोग होते हैं। जलवायु में विकास की तैयारी करने के लिए क्या किया जाएगा।
प्रबंधन के लिए कृषि प्रबंधन और प्रबंधन प्रबंधन उत्पाद प्रबंधन उत्पाद प्रबंधन उत्पाद प्रबंधन प्रबंधन उत्पाद प्रबंधन प्रबंधन उत्पाद प्रबंधन उत्पाद प्रबंधन उत्पाद प्रबंधन उत्पाद बनने के लिए योजना बना रहा है संक्रमण के निर्देश दिए गए हैं।
बैठक में सदस्य के सदस्य के रूप में उप कृषि विज्ञान केंद्र के वरिष्ठ मंत्री डॉ0 आरके सिंह, डॉ0 द्रविड़ प्रताप सिंह, डॉ0 रणधीरमल नायक और वैद्यक के सहायक प्राध्यापक डॉ0 विनीत प्रताप सिंह, डॉ0 वर्मा व डॉ0 विद्वेशेश भी मीटिंग में सक्रिय थे।

See also  हिंसक प्रदर्शन में अब तक 15 की मौत, 350 से ज्यादा गिरफ्तार, आज भी अलर्ट जारी