UKADD
Saturday, October 16, 2021 at 5:12 AM

गुलाम रसूल के गोली शाॅट को आज भी किया जाता है याद

बदायूॅ। बदायूॅ मे बहुत अच्छे अच्छे क्रिकेट खिलाड़ी रहें हैं, और बहुत अच्छे अच्छे खिलाड़ी इस समय खेल भी रहे हैं। अगर क्रिकेट के जिक्र मे इन खिलाडियो का जिक्र न हो तो इन खिलाडियो के साथ नाइंसाफी जैसी बात होगी। बदायूॅ मे अच्छे खिलाड़ी हमेशा रहे हैं और इस समय भी हैं। बदायूॅ मे शरीफुल हसन, सरदार अजीत सिंह, अली जफर, राजेश, लाला नंद किशोर, संतोष शर्मा, चन्नू, गुड्डा, गुलजार, रईस बाबू, अरशद, माजिद खान, अरशद नसीरी बीलम, आसिफ खान, आसिफ खान दिल्ली, फीरोज खान, तेज नारायण, गुलाब राय, नीरज, अमित सक्सेना, इकबाल जावेद, अजीम रिजवी, पप्पन, अजय जौहरी, रूप किशोर, अजय शर्मा, सलमान उर्फ रन्नू, वसीम डिश, जहीर फराह खान, गुलाम रसूल, अथर अनीस, वासिफ, आदिल खान, इब्राहीम, इसरार अली, आसिफ मीरा सराय, शारिक अजीज शर्रू, अब्दुल खालिक, मुजाहिद, आमिर फरीदी, आसिम रशीद, आदिल रशीद, खुर्शीद चौधरी, विश्वजीत, शिव कुमार, विक्की कंचन, मधुर, अंकुर, अखिलेश, प्रसून, मोईन, रोहित, अफसार, अब्बास, शाहिद, मुन्ना, बबुआ, इल्मी, खालिद कचहरी, इकराम, नईम, मसूद हाशमी, खालिद कबूलपुरा और भी बहुत से ऐसे रहे हैं अगर सबका नाम बताया जाए तो फेहरिस्त काफी बढी हो जाएगी। यह वो बदायूॅ के खिलाड़ी है। जिनके खेल की आज भी तारीफ होती है। इनमे कुछ खिलाड़ी ऐसे भी हैं जो आज भी क्रिकेट खेल रहे हैं। समय-समय पर ऐसे खिलाडियो का जिक्र होते रहना चाहिए जिससे नये लडको को भी मालूम होना चाहिए कि बदायूॅ मे ऐसे खिलाडी रहे हैं जिन्होंने बदायूॅ का नाम रोशन किया।

आज जिक्र करते हैं उस खिलाडी का जिसने बदायूॅ के लिए अच्छा क्रिकेट खेला और उस खिलाडी के अच्छे व्यवहार और अच्छे खेल की आज भी तारीफ होती है। जी हां आज जिक्र गुलाम रसूल का कर रहे हैं। गुलाम रसूल को गुल्लू भी कहा जाता है। गुल्लू की गोली जैसे शाॅट की अक्सर जिक्र होता रहता है। जिस समय गुल्लू ने क्रिकेट खेलना शुरू किया तो उस समय एक से बढकर एक दिग्गज खिलाड़ी थे। गुल्लू के लिए इन दिग्गजो के बीच अपना खेल दिखाना बहुत कठिन काम था। लेकिन मेहनत से आगे कठिन से कठिन काम आसान हो जाते हैं। गुल्लू ने मेहनत कर अपना ऐसा खेल दिखाया जिसे देखकर उस समय के दिग्गज गुल्लू के खेल पर फिदा हो गये। गुल्लू ने अपने बल्ले से रन बनाए जिससे क्रिकेट की दुनिया मे गुल्लू का नाम छा गया था। गुल्लू ने काफी अच्छी पारियां खेली, गुल्लू ने अपनी टीम को काफी टूर्नामेंट जिताए। गुल्लू का अच्छा व्यवहार और अच्छा खेल की तारीफ होती है। गुल्लू जब बल्लेबाजी करते थे तो उनके गोली जैसे शाॅट सीधा बाउंड्री के बाहर दिखता था। गुल्लू के खेल का जिक्र आज भी होता है। गुल्लू दिल्ली मे रहकर अपना कारोबार कर रहे है। बदायूॅ मे टूर्नामेंट को लेकर चौधरी सराय के एएच इलेवन के कप्तान आरिफ खान आफरीदी और उपकप्तान डिंपल ने गुल्लू को अपनी टीम मे शामिल किया है। इधर गुलाम रसूल के एएच इलेवन से खेलने की खबर सुनकर गुल्लू के चाहने वालो मे खुशी की लहर दौड गई है। बदायूॅ के क्रिकेट प्रेमियों का कहना है कि गुलाम रसूल का काफी अरसे के बाद देखने को मिलेगा यह खुशी की बात है। गुल्लू बहुत अच्छे खिलाड़ी के साथ साथ एक अच्छे इंसान हैं।