लगातार तीसरे साल विनिवेश में चूक सकती है सरकार,नहीं मिल रहे हैं खरीदार

मुंबई:केंद्र सरकार लगातार तीसरे साल विनिवेश से चूक सकती है। चालू वित्तवर्ष यानी 2021-22 में अभी तक केवल 9,329 करोड़ रुपए ही जुट पाया है। जबकि साल खत्म होने में केवल 70 दिन और बाकी हैं।

एअर इंडिया की हुई डील-सरकार ने चालू वित्तवर्ष में एअर इंडिया के रूप में सबसे बड़ी डील की। इसे टाटा ग्रुप को बेचा गया। इस पर 61 हजार 562 करोड़ रुपए का कर्ज है। डील के अनुसार, इसमें से केवल 25% या 15 हजार 300 करोड़ रुपए ही टाटा लेगा। बाकी की रकम एअर इंडिया असेट्स होल्डिंग लिमिटेड को दे दिया जाएगा।उसके बाद से सरकार अभी तक कोई बड़ी डील नहीं कर पाई है।

LIC पर है नजर- ऐसा माना जा रहा है कि LIC के रूप में सबसे बड़ा IPO मार्च के पहले आ सकता है। अगर यह होता है तो सरकार को 80 हजार से एक लाख करोड़ रुपए मिल सकते हैं। फिर भी विनिवेश का जो 1.75 लाख करोड़ रुपए का लक्ष्य है, वह पूरा नहीं होगा।

1.75 लाख करोड़ के विनिवेश का लक्ष्य-पिछले साल बजट में सरकार ने 1.75 लाख करोड़ रुपए जुटाने का लक्ष्य रखा था। डिपार्टमेंट ऑफ इन्वेस्टमेंट एंड पब्लिक असेट मैनेजमेंट (दीपम) के आंकड़ों के मुताबिक, अभी तक इसका केवल 5% हिस्सा ही जुट पाया है। पिछले साल बजट में वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा था कि कुछ चुनिंदा सरकारी कंपनियों में सरकार अपना मालिकाना हक घटा सकती है।

NMDC से मिले 3,651 करोड़ रुपए-आंकड़ों के मुताबिक, अब तक सरकार ने NMDC में ऑफर फॉर सेल के जरिए हिस्सा बेचकर 3,651 करोड़ रुपए जुटाया। हुडको में OFS के जरिए 720 करोड़ जबकि HCL में OFS से 741 करोड़ रुपए जुटाए हैं। हिस्सा बेचने के बाद NMDC में सरकार की हिस्सेदारी

See also  रेलवे जल्‍द बदलेगा टिकटिंग के नियम, आप भी जानें