गुड्डी गुड्डा बोर्ड स्थापना कार्यक्रम का हुआ आयोजन बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ की कराई शपथ

गुड्डी गुड्डा” बोर्ड की स्थापना कार्यक्रम का हुआ आयोजन
फिरोजाबाद।महिला कल्याण विभाग के अंतर्गत महिला शक्ति केंद्र की टीम द्वारा मिशन शक्ति 4.0 अभियान के अंतर्गत “गुड्डी गुड्डा” बोर्ड की स्थापना का आयोजन शुक्रवार को विकास खंड नारखी की ग्राम पंचायत दौलतपुर, कुतुबपुर चनोरा,  नेपई, कपावली और गौंछ में किया गया।
कार्यक्रम के अंतर्गत महिला शक्ति केंद्र की महिला कल्याण अधिकारी अनम अकाशा और जिला समन्वयक मोहिनी शर्मा द्वारा कन्या भ्रूण हत्या पर मौजूद समस्त महिलाओं बालिकाओं एवं जनसाधारण को इस कुप्रथा को जड़ से खत्म करने की मुहिम से जुड़ने का निवेदन किया गया। इसके साथ ही गुड्डी गुड्डा बोर्ड की स्थापना का महत्व समझाते हुए बताया गया कि चाइल्ड सेक्स रेश्यो किस कदर गिरता जा रहा है, जिसमें बालिकाओं की जन्म की संख्या बालक की जन्म की संख्या से कम पाई जा रही है। इसको सुधारने, बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना से जोड़कर जन मानस में संवेदीकरण करने हेतु गुड्डी गुड्डा बोर्ड की स्थापना की गई है। जिस पर प्रत्येक माह उक्त ग्राम पंचायत में जन्मे बालक व बालिकाओं की संख्या को दर्शाया जाएगा जो कि जागरूकता का स्त्रोत बन पाएगा। साथ ही महिला कल्याण अधिकारी एवं जिला समन्वयक द्वारा ऐसे विषयों पर भी जैसे पोक्सो एक्ट नारी सुरक्षा, नारी सम्मान, नारी स्वभाव लंबन के लिए चलाए जा रहे विभिन्न योजना जैसे निराश्रित महिला पेंशन योजना, मुख्यमंत्री कन्या सुमंगला योजना, उत्तर प्रदेश मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना, व उत्तर प्रदेश मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना सामान्य (कोरोना या अन्य कारण से अनाथ व एकल अभिभावक बच्चों के लिए),  मुखबिर योजना, जननी सुरक्षा योजना, सखी योजना, आईसीडीएस योजना, मनरेगा एवं बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ आदि सरकारी योजनाओं के बारे में विस्तृत जानकारी प्रदान की गई। इसके साथ ही बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ की शपथ ग्रहण करवाई गई।
इसके अलावा साथ ही महत्वपूर्ण हेल्पलाइन नंबर 112, 1090, 181 , 1076 , 1098 102, 108 के बारे में जानकारी प्रदान की गई।
कार्यक्रम में महिला कल्याण अधिकारी अनम अकाशा , जिला समन्वयक मोहिनी शर्मा , बीएमएम प्रीति,  ग्राम प्रधान, ग्राम पंचायत सहायक और ग्रामीण महिलाएं एवं बालिकाएं द्वारा प्रतिभाग किया गया।
रबीन्द्र वर्मा (दैनिक तरुण मित्र)
फ़िरोज़ाबाद

See also  हिंसा में विश्वास रखने वाले अहिंसा का पाठ न पढ़ाए : देवेन्द्र