Thursday, September 23, 2021 at 4:10 AM

कैसे बन गएरोहिंग्या मुसलमानों के वोटर कार्ड?

मुरादाबाद: भगतपुर टांडा ब्लाक में रुस्तमपुर तिगरी गांव में सोलह रोहिंग्या के वोट बनाने में सहायक अध्यापक को निलंबित कर दिया गया। इसी गांव के लोगों ने शिकायत की थी सहायक अध्यापक ने नियम विरुद्ध रिश्वत लेकर विधानसभा क्षेत्र की लिस्ट में रोहिंग्या के नाम शामिल किए और ग्राम प्रधान ने फर्जी कागजात बनाए। एसडीएम ने तहसील टीम से जांच करवाई तो मामला सही पाया गया। बीएसए ने बीएलओ सहायक अध्यापक को तत्काल निलंबित कर दिया।

बीएसए योगेंद्र सिंह ने बताया कि मुख्य विकास अधिकारी के पत्र के मुताबिक नाजिर और पीरबख्श निवासी रुस्तमपुर तिगरी ने शिकायत की थी कि वर्मा से आए रोहिंग्या के बीएलओ प्रशांत कुमार ने रिश्वत लेकर वोट बना दिए। विधानसभा मतदाता सूची में इनको शामिल किया गया है।

शिकायतकर्ताओं ने यह भी आरोप लगाया था कि ग्राम प्रधान ने अपने वोट बढ़ाने के चक्कर में फर्जी कागजात जारी किए। 29 जनवरी की शिकायत पर 1 फरवरी को इस मामले की जांच आख्या उप जिलाधिकारी सदर मुरादाबाद के आधार पर एक्शन लिया गया।

मुरादाबाद ग्रामीण विधानसभा क्षेत्र में पड़ने वाले रुस्तमपुर तिगरी में तहसील स्टाफ से एसडीएम ने जांच करवाई। इसमें पाया गया कि प्राइमरी स्कूल रुस्तमपुर तिगरी भाग संख्या 105 पर सोलह आवेदन प्राप्त हुए। जिसमें बीएलओ ने अपनी रिपोर्ट लगाते हुए लिखा था कि दावा सत्य है वोट बनाने योग्य हैं। इसी आख्या पर वोटर लिस्ट क्रामांक पर 794 से 809 तक सोलह वोट बढ़ा दिए गए। उक्त बढ़ाए गए वोटरों के संबंध में शिकायतकर्ता की शिकायत को सही पाया गया। बीएलओ द्वारा ड्यूटी में लापरवाही बरतना और निर्देशों का पालन नहीं करना पाया गया।

बीएसए योगेंद्र कुमार ने तहसील की आख्या पर सहायक अध्यापक प्रशांत कुमार को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया। साथ ही कहा गया है कि सहायक अध्यापक ब्लाक संसाधन केंद्र ठाकुरद्वारा में अटैच रहेंगे और बिना आज्ञा मुख्यालय नहीं छोड़ेंगे।

एसडीएम सदर प्रेरणा सिंह ने बताया फर्जी वोट बनाने की जांच तहसील स्टाफ के माध्यम से करवाई गई। जिसमें आरोप सही पाए गए। इसी आधार पर बीएसए दफ्तर को आख्या भेजी गई। बीएसए ने इसी आधार पर संबंधित के विरुद्ध एक्शन लिया है।

 

 

Loading...