UKADD
Saturday, October 16, 2021 at 11:27 AM

नमो नीतियों से फ्रांस और ब्रिटेन को पीछे छोड़ क्लब 5 में शामिल होगा भारतीय बाजार: राजीव रंजन

पटना। भाजपा प्रदेश उपाध्यक्ष राजीव रंजन ने आज कहा कि मोदी सरकार ने कोरोना माहामारी के बाद देश की इकोनॉमी को पटरी पर लाने के लिए कई बड़े फैसले लिए थे, जिसका काफी सकारात्मक असर आज भारतीय बाजारों पर देखने को मिल रहा है. रॉकेट की तरह भागते हुए आज भारतीय बाजारों का मार्किट कैप 3.46 लाख करोड़ तक पहुंच चुका है. भारतीय बाजार की इस तेजी के आगे दुनिया के बड़े-बड़े देशों के बाजार टिक नहीं पा रहे हैं.

मार्केट कैप के हिसाब से फ़िलहाल भारत विश्व में छठे स्थान पर हैं. अमेरिका, चीन, जापान, हॉन्गकॉन्ग और ब्रिटेन जैसे देश ही इस मामले में भारत से आगे हैं, लेकिन भारतीय बाजारों में छाई तेजी को देखते हुए जानकारों का मानना है कि भारत जल्द ही ब्रिटेन को पीछे छोड़ते हुए इस सूची में पांचवे स्थान पर काबिज हो सकता है. वास्तव में मोदी सरकार की कोशिशों ने भारत के कारोबार जगत में ऐसी जान फूंकी है कि विदेशी निवेशकों के साथ भारतीय निवेशकों का भी बाजार पर भरोसा बढ़ता जा रहा है.

उन्होंने कहा कि देश की बढ़ती अर्थव्यवस्था की पुष्टि आज दुनिया के प्रख्यात संस्थान भी करने लगे हैं. अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष के अनुमानों के मुताबिक, साल 2021 में भारतीय अर्थव्यवस्था में 9.5 प्रतिशत की दर से बढ़ने की उम्मीद है। वहीं, अगले साल यानी साल 2022 में 8.5 फीसदी की दर से इसमें वृद्धि का अनुमान है. देश का कंज्यूमर कॉन्फिडेंस इंडेक्स जो जुलाई में 48.6 था, सिंतबर में बढ़कर 57.7 हो गया है. साथ ही फ्यूचर एक्सपेक्टेशंस इंडेक्स जुलाई में 104 था, वह सितंबर में बढ़कर 107 हो गया है. यह देश की बेहतर अर्थव्यवस्था के संकेत हैं.

अर्थव्यवस्था को उबारने में टीकाकरण की अहम भूमिका होने की जानकारी देते हुए श्री रंजन ने कहा कि भारतीय अर्थव्यवस्था को कोरोना के प्रभाव से निकालने में टीकाकरण की तेज गति का भी काफी महत्वपूर्ण योगदान है. इसकी तेज रफ्तार आज अर्थव्यवस्था के लिए वरदान साबित हो रही है, क्योंकि यह देशवासियों में सुरक्षा का भाव जगाने में सफल रही है. वित्त मंत्रालय की सितंबर महीने की आर्थिक समीक्षा के मुताबिक, टीकाकरण की तेज रफ्तार ने कोरोना के बुरे प्रभावों से अर्थव्यवस्था को बाहर निकलने में मदद की है. हर क्षेत्र में वृद्धि के साथ भारत की अर्थव्यवस्था तेजी से सुधार के रास्ते पर आगे बढ़ रही है. आने वाले महीनों में इसमें और तेजी आने की उम्मीद है.