Saturday, January 22, 2022 at 1:24 AM

‘बीमे का बकाया 848 करोड़ किसानों को दो, वर्ना करेंगे कार्रवाई’

मुंबई:कृषि मंत्री दादाजी भुसे ने किसानों का बकाया बीमा राशि न चुकाने वाली बीमा कंपनियों को चेतावनी देते हुए 8 दिन का वक्त दिया है। उनसें 848 करोड़ रुपये का तत्काल भुगतान करने का आदेश दिया है। यह रकम 2021 में खरीफ फसल सीजन में फसलों के हुए नुकसान का बकाया है।
मंत्रालय में पत्रकारों से बात करते हुए कृषि मंत्री भुसे ने कहा कि हमने प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना में शामिल बीमा कंपनियों के कामकाज के बाबत समीक्षा बैठक की। बीमा राशि देने के लिए बीमा कंपनियां का बर्ताव ठीक नहीं है। इसे लेकर किसानों में भारी नाराजगी है। ऐसे हालत रहे तो कानून-व्यवस्था की समस्या खड़ी हो सकती है। इसके लिए पूरी तरह से बीमा कंपनियों जिम्मेदार होंगी। भुसे ने कहा कि बीमा कंपनियां किसानों के सब्र की परीक्षा न लें, क्योंकि पिछले एक साल से प्राकृतिक आपदा और कोरोना संकट के कारण किसान काफी परेशान हैं।

84 लाख किसानों ने आवेदन किया:इस साल खरीफ सीजन में प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना में राज्य के 84 लाख किसानों ने आवेदन किया है। बीमा कंपनियों के पास बीमे की किश्त के रूप में 2,312 करोड़ रुपये जमा किए हैं। फसलों को हुए नुकसान के चलते 33 लाख 28 हजार 390 किसानों ने आवेदन किया है। बीमा कंपनियों को फसलों के नुकसान के लिए 1,842 करोड़ रुपये किसानों को देना है। इसमें से 20 लाख 95 हजार 209 किसानों को 994 करोड़ रुपये उपलब्ध करा दिया गया है, जबकि बाकी बचे हुए 848 करोड़ रुपये किसानों को जल्द से जल्द मिना चाहिए। भुसे ने कहा कि रिलायंस जनरल इंश्योरेंस कंपनी को छोड़कर बाकी बीमा कंपनियां किसानों को बीमा राशि तेजी से उपलब्ध करा रही हैं।

फौजदारी का मामला दर्ज:कृषि मंत्री भुसे ने कहा कि बीमे की राशि न देने वाली बीमा कंपनियों के खिलाफ परभणी, बुलढाणा और अमरावती में किसानों ने फौजदारी का मामला पहले ही दर्ज किया है। बीमा कंपनियों के पास साल 2020 का लंबित 223.35 करोड़ रुपये भी जल्द किसानों को उपलब्ध कराने के निर्देश दिए गए हैं। बुलढाणा में किसानों ने बीमे की राशि न मिलने की शिकायत की है। बीमा कंपनियों को किसानों की शिकायतों को गंभीरता से लेना चाहिए। उन्होंने बीमा कंपनियां को चेतावनी देते हुए कहा कि उन्हें अपने काम करने के तरीकों में सुधार करना चाहिए।