Monday, December 6, 2021 at 4:33 AM

क्या एक स्मारक काफी नहीं?

नई दिल्ली: जयललिता का आवास वेद निलयम चेन्नई के पोएस गार्डन इलाके में स्थित है। पूर्व AIADMK सरकार ने जयललिता के आवास को स्मारक बनाने का आदेश जारी किया था। मद्रास हाई कोर्ट ने इस आदेश को यह कहते हुए रद्द कर दिया कि मरीना बीच पर पहले से ही एक स्मारक मौजूद है तो दूसरे की क्या जरूरत है।

विधानसभा में पास हुआ था बिल

सितंबर 2020 में तमिनाडु विधानसभा में एक बिल पास किया था जिसमें चेन्नई के पोएस गार्डन में  मौजूद वेदा निलयम को जयललिता के स्मारक के रूप में बदलने की बात कही गई थी। जयललिता की करीबी सहयोगी वी के शशिकला को बैंगलोर जेल से रिहा होने से पहले ही अन्नाद्रमुक सरकार ने जल्दबाजी में यह फैसला लिया था।

यूपी में आप का सपा से हो सकता है गठबंधन, केजरीवाल ने भी दिए संकेत

सरकार ने निजी संपत्ति के अधिग्रहण के लिए इसलिए एक कानून पारित किया क्योंकि वह इसे शशिकला के हाथों में जाने से रोकना चाहती थी। उनके परिवार के बारे में यह अफवाह थी कि अगर जयललिता की संपत्ति का वारिश उनके दिवंगत भाई, दीपा या  दीपक बनाया जाता है तो वह उनसे इसे खरीद लेगी।