UKADD
Thursday, October 21, 2021 at 7:42 PM

जनता पार्टी के एमएलसी सुरेंद्र चौधरी ने कांग्रेसियों को जोकर कह दिया

प्रयागराज । कांग्रेस की तरफ से एक पोस्टर आया है। ये जोकरों का काम है। यह घर में लड़ाने का काम करते हैं। वह कहते हैं हमारे अभय अवस्थी जी अध्यक्ष रहे हैं इलाहाबाद विश्वविद्यालय के। वह भी बच्चों के चक्कर में पड़ जाते हैं। फिर अनाप-शनाप शुरू आ जाते हैं। लिख देते हैं दुख भरे दिन बीतो रे भइया, अब सुख आयो रे। अब ये केकेरे सुख के चक्कर में परेशान हैं। हम लोग खुद नहीं समझ पा रहे हैं। राहुल के आने से दुखी हैं। ट्विटर नेता प्रियंका को आगे कर दिए। अब ये लोग प्रियंका को बाइकाट कर रहे हैं।  भारतीय जनता पार्टी के एमएलसी सुरेंद्र चौधरी कहते हैं इनके पास कोई काम नहीं है। ये इसी टाइप का काम करते हैं। यह अपने नेतृत्व ही नहीं अपने क्रियाकलाप से भी खुश नहीं हैं। उन्होंने यह भी कहा कि वरुण गांधी भाजपा परिवार के हैं। दावा किया कि 2022 चुनाव में भाजपा फिर बहुमत से सरकार बनाएगी। यही नहीं 2024 में नरेंद्र मोदी फिर से देश के प्रधानमंत्री बनेंगे। चुटकी लेते हुए कहा कि भाजपा बुलबुला नहीं है कि बरसात में फूट जाएगा।

वीडियो में वह कह रहे हैं कि भाजपा स्थायी पार्टी है। जबकि कांग्रेस के बूथ, मंडल और तहसील जैसी इकाइयां खत्म हो चुकी हैं। इन्हें यह भी नहीं पता कि यह कहां से चुनाव लड़ेंगे और कहां से नहीं। इन्हीं बातों को लेकर पूरा विपक्ष बौखलाया है। सुरेंद्र ने कहा भाजपा का पन्ना प्रमुख अभियान बड़े पैमाने पर चला रही है। कांग्रेस की चुटकी लेते हुए कहा कि कांग्रेसियों को मालूम ही नहीं होगा कि पन्ना प्रमुख है कौन। यहां तक कि पोस्टर वायरल करने वाले को यह तक नहीं पता होगा कि उनका बूथ क्या है। शहर कांग्रेस कमेटी के सचिव इरशाद उल्ला ने मंगलवार को इंटरनेट मीडिया पर एक पोस्टर वायरल किया था। पोस्टर में एक तरफ सोनिया और दूसरी तरफ वरुण की तस्वीर लगी है। उसके नीचे एक तरफ इरशाद और दूसरी तरफ वरिष्ठ कांग्रेस नेता बाबा अभय अवस्थी की तस्वीर है। पोस्टर में लिखा है ‘सुस्वागतम्। दुख भरे दिन बीते रे भइया, अब सुख आयो रे…’ प्रयागराज से जारी इस पोस्टर से सियासी गलियारे में हलचल तेज हो गई है। मामले में कमेटी के उपाध्यक्ष/प्रशासन प्रदीप नारायण द्विवेदी ने इरशाद को नोटिस जारी कर 24 घंटे के भीतर जवाब देने को कहा है।

कांग्रेस के प्रयागराज महानगर अध्‍यक्ष नफीस अनवर का इस संबंध में कहना है कि सुरेंद्र चौधरी पूरी तरह से हताश हो चुके हैं। जिस तरीके से महाराष्‍ट्र, उत्‍तराखंड, पंजाब में विधायक और सांसद भाजपा छोड़कर कांग्रेस में शामिल हो रहे हैं, ये उनकी हताशा का परिचय है। जोकर तो भाजपाई हैं। वे पिछले सात वर्षों से देश के साथ केवल जोकर‍गीरी कर रहे हैं।