Friday, December 3, 2021 at 6:02 AM

भाजपा का नेतृत्व शिवराज के हाथ; कैलाश विजयवर्गीय

भोपाल – अभिनव त्रिपाठी राजधानी संवाददाता तरुण मित्र।।मध्य प्रदेश की भाजपा राजनीति के मजे हुए खिलाड़ी के रूप में जानें जाने वाले पार्टी संगठन के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय यूं तो शेर शायरियो में बहुत कुछ कम जाते हैं किन्तु जब भी बोलते हैं बेबाकी व सफाई से उनके बोल सुनने का एक अवसर तरुण मित्र को निजी कार्यक्रम में मिला जब हाल की राजनीति पर चर्चा हुई जिसमें किसान कृषि कानून व 2023का विधानसभा चुनाव का तड़का लगाने का अवसर मिला ज्ञात हो
केंद्रीय कैबिनेट ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में सर्वसम्मति से तीनों कृषि कानूनों को रद्द करने के प्रस्ताव को पास कर दिया. केंद्र सरकार के इस कदम पर जब प्रतिक्रिया महासचिव कैलाश विजयवर्गीय से पूछी तो उनका कहना पड़ा कि तीनों कृषि कानून वापस लेने की पीछे सरकार की मंशा किसान हित में है.उन्होने कहा कि बिल को लेकर कई भ्रांतियां फैलाई गई थी. जिस कारण सरकार ने बिल को वापस ले लिया. उन्होंने कहा कि
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का ये फैसला देश हित में था. क्योंकि किसान आंदोलन की आड़ में बहुत कुछ चल रहा था. इसलिए उन्होंने इस अच्छे बिल पर कोई विवाद न हो इसलिए बिल वापस ले लिया. लेकिन ये चुनाव को देखते हुए फैसला नहीं लिया है।
राजनीतिक प्रश्न पर उन्होंने कहा कि हाल ही में हुए प्रदेश के चार उप चुनाव में तीन भाजपा को जीत मिली, इससे सिद्ध है कि जनता भाजपा के साथ है और आगामी विधानसभा चुनाव भी शिवराज सिंह चौहान के नेतृत्व में लड़ा जाएगा और भाजपा की ही सरकार बनेगी।
उन्होंने एक अन्य सवाल कमलनाथ के रैगांव चुनाव जीतने और 2023 के द्वार खुलने की बात पर प्रतिक्रिया देते हुए उन्होंने कहा कि कमलनाथ ने ये गलतफहमी पाल कर रखी है. हालांकि अच्छा है इस बात से उन्हें उत्साह रहेगा. एक सीट जीत कर कमलनाथ हो रहे खुश तो कोई बात नहीं है ।